Covid-19 Update

3,07, 628
मामले (हिमाचल)
300, 492
मरीज ठीक हुए
4164
मौत
44,253,464
मामले (भारत)
594,993,209
मामले (दुनिया)

हिमाचल: लक्ष्मण रेखा में रहकर बात करें CM, रॉन्ग नंबर ना करें डायल

रायजादा बोले- कांग्रेस के नेताओं ने नहीं लगा रखी हाथों में मेहंदी

हिमाचल: लक्ष्मण रेखा में रहकर बात करें CM, रॉन्ग नंबर ना करें डायल

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी शिमला/नाहन/ऊना। हिमाचल प्रदेश में सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) और नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के बीच चल रही बयानबाजी में एक तरफ जहां बीजेपी के नेताओं ने सीएम के पक्ष में मोर्चा संभाल रखा है, वहीं दूसरी ओर को कांग्रेस नेताओं ने भी नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के समर्थन में बीजेपी नेताओं के खिलाफ मंगलवार को मोर्चा खोल डाला।

ये भी पढ़ें- सरकार की नीतियों पर बोले, निजी टिप्पणी पसंद नहीं

बता दें कि सोमवार को सीएम जयराम ठाकुर की नसीहत के बाद में नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री (Mukesh Agnihotri) ने एक बार फिर सीएम जयराम ठाकुर पर पलटवार किया है। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर खुद लक्ष्मण रेखा में रहकर बात करें। उन्होंने कहा कि सीएम जयराम नेता प्रतिपक्ष पर रॉन्ग नंबर डायल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर अपने मंत्रियों की पूरी सेना उनके खिलाफ लगा दें, लेकिन इससे उन्हें कोई असर नहीं पड़ने वाला। उन्होंने कहा कि वे सिर पर कफन बांध कर बैठे हुए हैं। सीएम जयराम ठाकुर सरकार जाने के डर से विचलित नजर आ रहे हैं।

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने बीजेपी (BJP) नेताओं की ओर से उन्हें सरकार के रहम-ओ-करम पर नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने के बयान पर भी पलटवार किया। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान के अनुसार नेता प्रतिपक्ष के पद पर हैं। अगर सीएम जयराम ठाकुर को लगता है, तो वे उन्हें कल सुबह ही नेता प्रतिपक्ष के पद से हटाने की अधिसूचना जारी कर सकते हैं। उसके बाद प्रदेश की जनता देख लेगी, क्या मुकेश अग्निहोत्री को नेता प्रतिपक्ष मानते हैं या नहीं?

ये भी पढ़ें-मुकेश ने पार की हदें, बोले- किसी की सहेलियों का नहीं है सरकारी हेलिकॉप्टर

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष और सदस्यों को वित्तीय लाभ देने पर भी सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि एक ओर सरकार अग्निपथ योजना (Agneepath Scheme) के जरिए युवाओं को चार साल में बेरोजगार करने का काम कर रही है तो वहीं दूसरी ओर आयोग के सदस्यों को वित्तीय लाभ देना दुर्भाग्यपूर्ण है। साथ ही अग्निहोत्री ने आउटसोर्स कर्मचारियों का भी मुद्दा उठाया। अग्निहोत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के कर्मचारी ओल्ड पेंशन स्कीम (Old Pension Scheme) और आउटसोर्स कर्मचारी स्थाई नीति कर रहे हैं, लेकिन सीएम का ध्यान आयोग के सदस्यों को वित्तीय लाभ देने में है। उन्होंने कहा कि अब आखिरी साल में प्रदेश सरकार बड़ी-बड़ी घोषणाएं कर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रही है, लेकिन अब सरकार के जाने का समय आ गया है।

वहीं, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के समर्थन में उतरे प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं श्री रेणुका जी के विधायक विनय कुमार ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री की बढ़ती लोकप्रियता से प्रदेश की जयराम सरकार घबरा गई है और बीजेपी ने अपने मंत्रियों की ड्यूटी नेता प्रतिपक्ष के खिलाफ बयान देने में लगा दी है। यही वजह है कि प्रदेश सरकार के मंत्री आए दिन नेता प्रतिपक्ष के खिलाफ अनाप-शनाप बयानबाजी कर रहे हैं।

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री को लेकर बयान देने वाले प्रदेश सरकार के वन मंत्री राकेश पठानिया पर भी विनय कुमार ने निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वन मंत्री प्रदेश में लगातार बढ़ते वन कटान पर ध्यान दें, तो उनके लिए अच्छा होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के मंत्री अपने विभागों को संभालने की बजाय राजनीतिक बयान देने में व्यस्त है। उन्होंने कहा कि हिमाचल में बीजेपी को अब अपनी सत्ता हाथ से जाती दिखाई दे रही है और एक सोची समझी साजिश के तहत बीजेपी मुकेश अग्निहोत्री को बदनाम करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी नेता प्रतिपक्ष के साथ पूरी तरह से कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। उन्होंने कहा कि अब प्रदेश की जनता का बीजेपी सरकार से मोह भंग हो चुका है, क्योंकि वर्तमान सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है।

ये भी पढ़ें-मुकेश कांग्रेस अध्यक्ष नहीं बने तो इसमें बीजेपी का क्या दोष-पठानिया

वहीं, जिला ऊना में भी नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री पर हमले बोले जाने के बाद कांग्रेस नेताओं ने भी मोर्चा संभाल लिया है। मंगलवार शाम जिला ऊना कांग्रेस के आला नेताओं ने सीएम जयराम ठाकुर और बीजेपी के तमाम अन्य नेताओं के खिलाफ जमकर हमला बोला। सदर विधानसभा क्षेत्र के विधायक सतपाल सिंह रायजादा (Satpal Singh Raizada) ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष को सरकार से 5 साल का हिसाब मांगने का अधिकार है। ऐसे में सीएम या अन्य मंत्रियों को बौखलाहट में नहीं आना चाहिए बल्कि पूछे गए सवाल का जवाब देना चाहिए।
सतपाल सिंह रायजादा ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष के सवालों पर उनके परिवार को बीच में घसीट कर बीजेपी ने गलत परंपरा की शुरुआत की है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश की राजनीति सदैव शालीन रही है। ऐसे में नेता प्रतिपक्ष के खिलाफ प्रयोग की जा रही भाषा से प्रदेश की छवि को भी धक्का लगा है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि बीजेपी के नेता और मंत्री नेता प्रतिपक्ष के खिलाफ जिस प्रकार की भाषा का प्रयोग करेंगे उन्हें उसी भाषा में जवाब भी दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी के नेताओं ने चूड़ियां नहीं पहन रखी तो कांग्रेस के नेता भी अपने हाथों में मेहंदी नहीं लगा रखी है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है