Covid-19 Update

2,27,483
मामले (हिमाचल)
2,22,831
मरीज ठीक हुए
3,835
मौत
34,624,360
मामले (भारत)
265,482,381
मामले (दुनिया)

हिमाचल: JCC से पहले अराजपत्रित कर्मचारियों ने खोला मांगों का पिटारा

कर्मचारियों के विभिन्न मुद्दे पड़े हैं लंबित, बैठक का विधानसभा चुनावों पर पड़ेगा असर

हिमाचल: JCC से पहले अराजपत्रित कर्मचारियों ने खोला मांगों का पिटारा

- Advertisement -

मंडी। हिमाचल प्रदेश के पौने तीन लाख कर्मचारियों की विभिन्न मांगों को लेकर 27 नवंबर को राजधानी शिमला में होने वाली संयुक्त सलाहकार समिति (जेसीसी) (JCC)  की महत्वपूर्ण बैठक पर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) की अध्यक्षता में होने वाली जेसीसी की बैठक का प्रभाव हिमाचल प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव 2022 में सीधे तौर पर पड़ना निश्चित है। जेसीसी बैठक को लेकर हिमाचल प्रदेश अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ (non-gazetted employees federation) द्वारा भी अपनी रणनीति तैयार कर दी गई है।

ये भी पढ़ें-हिमाचल बीजेपी एक्सटेंडेड कोर ग्रुप की बैठक शुरू, अविनाश राय खन्ना बोले- इन मुद्दों पर होगा मंथन

अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के प्रदेश महासचिव राजेश शर्मा ने बताया कि अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ द्वारा बैठक से पहले ही सरकार को 62 सूत्रीय मांग पत्र प्रेषित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली को बैठक में मुद्दा रखा रहेगा और इसके साथ अनुबंध काल तीन से घटाकर दो साल करना भी प्रमुख रहेगा। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों को नियमितीकरण का लाभ भी 30 सितंबर, 2021 के बाद से दिया जाए। दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित करने की
अवधि पांच से घटाकर तीन साल करें। उन्होंने कहा कि महिला कर्मचारियों के लिए दो साल की चाइल्ड केयर लीव देना और प्रदेश में पंजाब के छठे वेतन आयोग की सिफारिशें लागू करना भी महासंघ की मांगों की सूची में है। राजेश शर्मा ने कहा कि मृत्यु और दिव्यांगता पर कर्मचारियों को पूरी पेंशन, करूणामूलक पदों का सृजन, दस के बजाय सात साल बाद ही कनिष्ठ सहायकों को वरिष्ठ सहायक और 4-9-14 का पे-स्केल कर्मचारियों को देना भी रहेगा। उन्होंने कहा कि आउटसोर्स और अन्य अस्थायी कर्मचारियों के लिए भी नीति बनाने सहित इस तरह के विभिन्न विभागों के मुद्दे बैठक में रखे जाएंगे।

बता दें कि जयराम सरकार के कार्यकाल में यह बैठक पहली बार और छह साल बाद होने जा रही है। बैठक में सरकार अनुबंध कर्मचारियों का कार्यकाल तीन से घटाकर दो साल करने की तैयारी कर चुकी है। इसके अलावा दैनिक वेतन भोगी कर्मियों के नियमितीकरण की अवधि को भी पांच से घटाकर तीन साल करने का बड़ा निर्णय हो सकता है।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है