Covid-19 Update

2,21,203
मामले (हिमाचल)
2,16,124
मरीज ठीक हुए
3,701
मौत
34,043,758
मामले (भारत)
240,610,733
मामले (दुनिया)

हिमाचल में सड़कों पर उतरीं नर्सरी अध्यापिकाएं, बिना शर्त नियुक्ति देने की उठाई मांग

आरएंडपी रूल्स के तहत की जाए नियुक्ति, आयु सीमा में दी जाए छूट

हिमाचल में सड़कों पर उतरीं नर्सरी अध्यापिकाएं, बिना शर्त नियुक्ति देने की उठाई मांग

- Advertisement -

धर्मशाला/ मंडी। प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापिका संघ ने प्राथमिक पाठशालाओं में प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापकों की नियुक्ति की मांग को लेकर कई जगहों पर प्रदर्शन किए। मंडी में प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापिका संघ ने रैली निकालकर प्रदर्शन किया। संघ का कहना है कि 23 वर्ष पहले नर्सरी अध्यापिकाओ को प्राथमिक पाठशाला में लगाया गया था परंतु उसके बाद आज तक पूरे प्रदेश में कोई भी नर्सरी अध्यापिका नहीं लगाई गई है। इनमें से अधिकतर महिला गरीब परिवार से संबंधित है और कुछ महिलाएं विधवा हो गई है उन्हें रोजगार की सख्त आवश्यकता है। संघ ने सरकार से मांग की है कि प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापिकाओ की नियुक्ति आरएंडपी रूल्स बनाकर की जाए और आयु सीमा में छूट दी जाए। प्री प्राइमरी कक्षाओं को पढ़ाने के लिए प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापिकाओं को नियुक्त किया जाए। इस मौके पर प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापिका संघ की प्रदेश महामंत्री कल्पना शर्मा व प्रदेश कोषाध्यक्ष ललिता ठाकुर ने कहा कि प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापिकाओं की नियुक्ति बैचवाइज की जाए और वार्ड आफ एक्स सर्विसमैन का कोटा दिया जाए।

यह भी पढ़ें:हिमाचलः निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ शिक्षा निदेशालय के बाहर पहुंच गए अभिभावक

 

 

रैली निकाल कर जताया रोष

नर्सरी अध्यापिका संघ कांगड़ा की ओर से शिक्षा बोर्ड से डीसी ऑफिस धर्मशाला तक रैली निकाली गई। जिसमें संघ ने प्रदेश सरकार से नियुक्ति नियमित आधार पर आर एंड पी रुलज बनाकर किए जाने की मांग प्रमुखता से उठाई है। उन्होंने कहा कि पिछले 23 वर्षों से उनकी नियुक्ति नहीं हो पाई है, ऐसे में 100 फीसदी पर ही एनटीटी को नियुक्ति प्रदान की जाए। संघ की जिला अध्यक्ष मधु बाला ने कहा कि आयु सीमा में भी छूट प्रदान किये जाने के साथ अन्य मांगों को लेकर डीसी के माध्यम से सीएम जयराम ठाकुर को ज्ञापन भेजा है। जिसमे उन्होंने बैचवाइज भर्ती बिना किसी शर्त के किये जाने की बात रखी है। बता दें कि हिमाचल प्रदेश में 8000 के लगभग प्रशिक्षित नर्सरी अध्यापिकाएं हैं। पूर्व में सरकार ने साल 1996-97 में नर्सरी अध्यापिकाओं को प्राथमिक स्कूलों में लगाया था इसके बाद प्रदेश में कहीं भी नर्सरी अध्यापिकाओं की नियुक्ति नहीं हुई है जिससे नर्सरी अध्यापिकाओं में काफी रोष है।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है