×

मटर कारोबार का देख लो हाल, Video देखकर आप भी बोलेंगे …ये क्या है भगवान

करसोग में मटर सीजन शुरू, मंडी में बहुत ही कम मात्रा में पहुंच रहा है मटर

मटर कारोबार का देख लो हाल, Video देखकर आप भी बोलेंगे …ये क्या है भगवान

- Advertisement -

करसोग। हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला के करसोग (Karsog in Mandi district) में मौसम (Weather) की पड़ी मार से किसानों (Farmers) की कमर तो टूटी है, लेकिन अब इसका असर मंडियों में भी दिखने लगा है। उपमंडल के तहत चुराग सब्जी मंडी (Churag subzi mandi) की बात करें तो यहां रबी सीजन में मटर कारोबार आधे से भी कम रहने के आसार नजर आ रहे हैं। करसोग में मटर सीजन (Pea Season) शुरू हो गया है, लेकिन स्थिति है कि मंडी में बहुत ही कम मात्रा में मटर पहुंच रहा है। जिससे आढ़तियों के पास प्रदेश की अन्य मंडियों में मटर भेजने के लिए लोड भी पूरा नहीं हो रहा है। ऐसे में कम फसल होने से आढ़तियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं।


यह भी पढ़ें: स्नो फ़ेस्टिवलः लाहुल स्पीति में कोकसर की ढलानों पर हुई स्कीइंग प्रतियोगिता

रबी सीजन (Rabi season) में मटर ली जाने वाली प्रमुख फसल है। यहां लोगों की आर्थिकी का मुख्य साधन मटर की फसल है। ऐसे में अधिकतर क्षेत्रों में मटर की बुवाई की गई है। सर्दियों के मौसम में सूखा पड़ने से आधे से ज्यादा फसल बर्बाद हो गई है। जिससे मंडियों में भी बहुत कम मटर पहुंच रहा है। अकेले चुराग सब्जी मंडी में हर साल औसतन 40 से 60 लाख तक मटर कारोबार होता है, लेकिन इस बार यही कारोबार आधे से भी कम रहने के आसार है। यही नहीं सूखे की वजह से किसानों के सामने भी रोजी.रोटी का संकट पैदा हो गया है। करसोग में इस बार 540 बीघा भूमि पर सब्जियों की बुवाई की गई है। इसमें अकेले 325 बीघा भूमि में किसानों ने मटर लगाया है। ऐसे में सामान्य से कम हुई बारिश की वजह से मटर की फसल बर्बाद हो गई है। किसानों ने बीज के लिए हजारों रुपए खर्च किए हैं। यहां तक कि बहुत से किसानों ने तो बीज खरीदने के लिए बैंकों से लोन भी लिया है।

यह भी पढ़ें: ऊना पहुंची स्वर्णिम वर्ष विजय मशाल, 1971 युद्ध के वीरों व वीर नारियों का किया सम्मान

इस सूखे की मार से किसानों को बैंक की किश्त चुकानी भी मुश्किल हो गई है। चुराग सब्जी मंडी के आढ़ती मीना राम का कहना है कि बारिश ना होने से मटर की फसल बर्बाद हो गई है। उन्होंने बताया कि पिछली साल चुराग मंडी में 40 से 60 लाख का मटर कारोबार हुआ थाए लेकिन इस बार यही कारोबार 10 लाख तक रहने के आसार हैं। उन्होंने कहा कि इससे आढ़तियों को भी काफी नुकसान होगा। विकासखंड करसोग के कृषि विभाग के विषय वार्ता विशेषज्ञ मुंशी राम ठाकुर का कहना है कि करसोग में 60 फीसदी मटर की फसल सूखे की वजह से बर्बाद हुई है। उन्होंने कहा कि इस बारे में सरकार को रिपोर्ट भेजी गई है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है