Covid-19 Update

2,05,061
मामले (हिमाचल)
2,00,704
मरीज ठीक हुए
3,498
मौत
31,396,300
मामले (भारत)
194,663,924
मामले (दुनिया)
×

अपना ही मल खाते हैं खरगोश, क्या आप जानते हैं इसके पीछे की वजह

इसे खाकर पोषक तत्वों को पचाते हैं खरगोश

अपना ही मल खाते हैं खरगोश, क्या आप जानते हैं इसके पीछे की वजह

- Advertisement -

धरती पर कितने ही जीव हैं और सबकी अलग-अलग विशेषताएं हैं। प्यारा सा कूदता-फांदता खरगोश (Rabbits) किसे पसंद नहीं आता। खरगोश धरती पर पाए जाने वाला सुंदर और मनमोहक जानवर है। खरगोश अलग-अलग जगह पर अलग रंग-रूप में पाया जाता है। हम आपको खरगोश के बारे में एक अनोखी चीज बताने वाले हैं जिसको जानकर आपको हैरानी जरूर होगी। खरगोश अपना ही मल खाते हैं। जी हां, खरगोश एक ऐसा जीव है, जिसका पाचन तंत्र अच्छे से विकसित नहीं होता है। यह जीव अपना अधिकांश जीवन घास खाकर ही बिताता है जिसकी वजह से खरगोश के शरीर से बहुत से जरूरी न्यूट्रिएंट्स (Essential Nutrients) बिना पचे ही बाहर निकल जाते हैं। ऐसे में खरगोश उसे फिर से खाकर अधिक से अधिक पोषक तत्व पचाते हैं। ये बिल्कुल उस तरह का है जैसे गाय और भैंस जैसे अधिकांश चौपाया जानवर अपने भोजन को वापस मुंह में लाकर उसे पचाते हैं।

यह भी पढ़ें: इस कब्र पर मांगी जाती है प्यार की मन्नत, जानिए क्यों माना जाता है प्रेम का प्रतीक


खरगोशों के मल दो किस्म की होती है, पहला तरल और दूसरा सख्त। तरल मल को सीकोट्रोप कहा जाता है, जो पोषक तत्वों से भरपूर होती है। खरगोश इसे खाकर पोषक तत्वों (Nutrients) को पचाते हैं और इसके बाद सख्त मल का त्याग करते हैं। सीकोट्रोप यानी खरगोश के तरल मल में सख्त मल की तुलना में दोगुने पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसमें विटामिन के और विटामिन बी 12 होता है। अगर खरगोश सीकोट्रोप को नहीं खाएंगे, तो उनके शरीर से अधिकांश पोषक तत्व बिना पचे ही निकल जाएंगे।

यह भी पढ़ें: दुनिया के ऐसे शहर जहां भूतों का है डेरा, रात में जाने के नाम से घबराते हैं लोग

खरगोश शाकाहारी जानवर होते हैं, जो सिर्फ सब्जियां या घास खाते हैं। ऐसे में उनके शरीर के लिए फाइबर बहुत जरूरी होता है। खरगोश एक ऐसा जीव है, जिसका पाचन तंत्र रात में बहुत तेजी से काम करते हुए बहुत से भोजन को बिना पचाए ही बाहर निकाल देता है। इस वजह से सीकोट्रोप यानी तरल मल का त्याग रात में ही करते हैं और उसी समय इसे खा भी लेते हैं। तरल मल को वो पूरी तरह से पचाकर सख्त मल की तरह बाहर निकालते हैं। आपके लिए सुनने में शायदा अजीब हो लेकिन इनके लिए ये इनकी दिन की क्रिया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है