Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

धातु से सना बर्तन सिंक में भूले Scientist ने की धातु खाने वाले बैक्टीरिया की खोज

धातु से सना बर्तन सिंक में भूले Scientist ने की धातु खाने वाले बैक्टीरिया की खोज

- Advertisement -

नई दिल्ली। कहते हैं कि आवश्यकता आविष्कार की जननी होती है, लेकिन कई सारे आविष्कार गलतियों के कारण भी हो जाया करते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ कैलिफॉर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (कैलटेक) के माइक्रोबायोलॉजिस्ट्स के साथ। जिन्होंने अनजाने में एक ऐसा बैक्टीरिया खोज निकाला है जो धातु खा सकता है। दरअसल, एक माइक्रोबायोलॉजिस्ट कई महीने के लिए बाहर जाने से पहले मैंगनीज़ से सना बर्तन सिंक में रखकर भूल गया था। लौटने पर उन्होंने उसे काले तत्व से ढका पाया जो नए बैक्टीरिया के कारण बना ऑक्सीडाइज़्ड मैंगनीज़ था। हालांकि अभी उन्होंने इसे कोई नाम नहीं दिया है। बैक्टीरयल कैमोलिथोऑटोट्रॉफी वाया मैंगनीज ऑक्सीडेशन शीर्षक से नेचर में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक यह पहला ऐसा बैक्टीरिया है जो अपने ईंधन के लिए मैंगनीज खाता है। जब यह बैक्टीरिया धातु के संपर्क में आता है तो वह उसे प्रोटोन देने की कोशिश करता है। इस प्रक्रिया में ऑक्सीकरण होता है जिससे मैंगनीज ऑक्साइड का निर्माण होता है। यह बैक्टीरिया मैंगनीज का उपयोग कैमोसिंथेसिस के लिए करते हैं। यह कार्बन डाइऑक्साइड को बायोमास में बदलने की प्रक्रिया है।

यह भी पढ़ें: NASA के सोलर ऑर्बिटर ने सूरज के बेहद करीब जाकर ली तस्वीरें, देखकर Scientist भी हैरान

यहां पढ़ें किस तरह हुई बैक्टीरिया की खोज

वहीं इस बैक्टीरिया की खोज से जुड़ा किस्सा शेयर करते हुए एक मीडिया रिपोर्ट में बताया गया कि डॉ जैरेड ने एक ग्लास जार एक नल के पानी से भीगे पदार्थ से ढककर अपने ऑफिस के सिंक में छोड़ दिया था। यह जार कई महीनों तक वैसा ही पड़ा रहा। जब वे लौटे तो उन्होंने देखा कि जार पर एक गहरे रंग के पदार्थ की परत चढ़ गई है। ये एक काई की परत जैसी थी। उन्होंने माइक्रोस्कोप से इसकी जांच की तो एक नए तरह का बैक्टीरिया सामने आया। डॉ जैरेड ने बताया कि यह परत ऑक्सीकृत मैंगनीज है जो एक नए बैक्टीरिया की वजह से बनी है जो नल के पानी में मिल सकता है। खोजकर्ता का मानना है कि ये इकलौता बैक्टीरिया नहीं हैं जो धातु खाता है। इससे पहले भी कुछ ऐसे मिलते-जुलते बैक्टीरिया मिले हैं जो जमीन के नीचे पानी में रहते हैं। ऐसे में नए बैक्टीरिया की मदद से उनके बारे में जानने में आसानी होगी। इतना ही नहीं इस अध्ययन से उन्हें जमीन के अंदर के पानी के बारे बेहतर जानकारी मिल सकेगी। साथ ही वे उन सिस्टम को समझ सकेंगे जो मैंगनीज ऑक्साइड के कारण बंद या चोक हो जाते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group.

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है