Covid-19 Update

2,21,203
मामले (हिमाचल)
2,16,124
मरीज ठीक हुए
3,701
मौत
34,043,758
मामले (भारत)
240,610,733
मामले (दुनिया)

राजधानी शिमला में सड़क पर जाम आम लोगों के लिए लगता है, वीआईपी तो पास से निकल जाते हैं

रोजाना जाम की समस्या से दो चार होते हैं शिमलावासी

राजधानी शिमला में सड़क पर जाम आम लोगों के लिए लगता है, वीआईपी तो पास से निकल जाते हैं

- Advertisement -

शिमला। राजधानी शिमला में वीकेंड के दिनों की बात तो छोड़िए अब तो रोजाना जाम की समस्या उत्पन्न हो रही है। आम जनता से लेकर एसेंशियल सर्विसेज तक जाम में फंस जाते हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस जाम में अफसरशाही (Bureaucracy) की एक भी गाड़ी नहीं फंसती। ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) महकमा सिर्फ उन्हें जाम से निजात दिलाने के लिए पहले प्रबंध कर लेता है। बाबूओं की गाड़ियों के लिए रफ्तार बाइकर्स समेत ट्रैफिक पुलिस में तैनात जवान हरकत में आ जाते हैं। मगर यही जवान उन्हीं जाम में फंसे आम जनता को समस्या से निजात नहीं दिलाते बल्कि उल्टे उनका चालान काटा जाता है।

यह भी पढ़ें: हिमाचलः रामपुर से ताबो जा रही एचआरटीसी की बस के ऊपर गिरे पत्थर, यात्रियों को आई चोटें

एक किलोमीटर की दूरी तय करने में लगता है एक घंटा

शिमला में सुबह के समय लगने वाले जाम ने लोगों की परेशानियां बढ़ा दी है। सोमवार को कार्यालय जाने के क्रम में लोग जब अपने घरों से दफ्तर के लिए निकले तो उन्हें लंबा जाम का सामना करना पड़ा। महज एक किलोमीटर की दूरी तय करने में लोगों को एक घंटा समय लग जा रहा है। आज कई जगहों पर तो मरीजों को ले जा रही एंबुलेंस भी जाम में फस गई, लेकिन एंबुलेंस चालकों की सूझबूझ के चलते उन्होंने अपने वाहनों को जाम से सही समय पर निकाल लिया।

विक्ट्री टनल से टूटू तक लगता है जाम

गौरतलब है कि शिमला में लोग आए दिन जाम की समस्या से जूझते रहते हैं। प्रशासन और सरकार इसका कोई स्थाई समाधान नहीं निकाल पा रहे हैं। जबकि कोरोना के कारण वर्तमान में लोगों की आवाजाही नियमित रूप से कम हो रही है। इधर प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल भी नहीं खोले गए हैं। अभी केवल सरकार हफ्ते में 3 दिन 10वीं और 12वीं और हफ्ते में 3 दिन नौंवी और ग्यारहवीं के बच्चों को ही बुला रहे हैं। बावजूद इसके जाम उसी तरह लग रहा है, सोमवार को भी विक्ट्री टनल से लेकर टूटू तक जगह-जगह पर जाम लगा रहा।

जाम लगने के ये हैं मुख्य कारण

दरअसल, लोअर हिमाचल के लिए शिमला से जब गाड़ियां आती है तो सबसे पहले वह ढेंडा के पास एकत्रित होती है। अगर वहां जाम लग जाती है तो फिर वाहनों की कतारें खड़ी हो जाती है। इसके बाद ये कतार ढेंडा से टूटू तक पहुंच जाती है। मालूम हो कि यहां पर भी नालागढ़ और लोअर हिमाचल का ट्रैफिक इक्ट्‌ठा होता है। जिससे वाहन बढ़ जाते हैं। यहां पर भी जाम लगना आम है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है