Covid-19 Update

1,98,313
मामले (हिमाचल)
1,89,522
मरीज ठीक हुए
3,368
मौत
29,419,405
मामले (भारत)
176,212,172
मामले (दुनिया)
×

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए ये है व्यवस्था-Video स्टोरी बताएगी पूरा माजरा

बाल कल्याण समिति के सदस्य वस्तुस्थिति की रिपोर्ट देंगे उसी आधार पर आगामी कार्रवाई होगी

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए ये है व्यवस्था-Video स्टोरी बताएगी पूरा माजरा

- Advertisement -

हमीरपुर। वैश्विक महामारी कोरोना एवं इसके प्रभावों से आज हर कोई जूझ रहा है। कोई अपने माता-पिता को खो रहा है तो कोई अन्य निकट संबंधियों को। ऐसी संकट की घड़ी में वे बच्चे अधिक मुश्किलें झेल रहे हैं जिनके माता-पिता या तो अस्पताल में उपचाराधीन हैं या फिर कोरोना का ग्रास बन चुके हैं। ऐसे अनाथ बच्चों (Orphaned Children) के संरक्षण, देखभाल एवं पुनर्वास के लिए जिला हमीरपुर में बाल संरक्षण सेवायें योजना के अंतर्गत विशेष प्रबंध किए गए हैं। डीसी देवश्वेता बनिक ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों की पूरी तरह से देखभाल करने का जिम्मा महिला एवं बाल विकास विभाग ने उठाने का निर्णय लिया है। इसके लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग के माध्यम से ऐसे बच्चों को सुजानपुर स्थित अनाथ आश्रम में रखने की व्यवस्था की गई है। यहां कोविड नियमों के अंतर्गत सभी सुविधाओं की व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़ें: कोरोना ने दिखाई अस्पतालों की असली तस्वीर, अब होंगे मेडिकल स्टाफ के तबादले

उन्होंने बताया कि इस संबंध में जिला के सभी एसडीएम को भी निर्देश दिए गए हैं कि कहीं भी ऐसे बच्चे के संबंध में अगर जानकारी मिलती है तो इसकी सूचना जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला बाल संरक्षण अधिकारी तथा बाल कल्याण समितिए हमीरपुर को दें। याद रहे कि जिला हमीरपुर के बिझड़ी व नादौन खंड में ऐसे मामले सामने आए है, जिसमें इस महामारी के दौर में बच्चों के अनाथ होने की सूचना है। उनके देखभाल व संरक्षण देने की प्रक्रिया विभाग द्वारा शुरू कर दी गई है। बाल कल्याण समिति के सदस्य वहां जाकर वस्तुस्थिति की रिपोर्ट देंगे और उसी आधार पर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। कोविड-19 संबंधी परामर्श एवं उपचारात्मक उपायों के बारे में हेल्पलाईन नंबर1077, 104, 1075 तथा 1800-11-2545 पर जानकारी प्राप्त की जा सकती है। बच्चों को बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत करने तथा चाइल्ड लाइन की सहायता प्राप्त करने के लिए दूरभाष संख्या 1098 पर संपर्क कर सकते हैं। यदि किसी बच्चे को आश्रय एवं संरक्षण की आवश्यकता है तो वह स्वयं या उसके संरक्षक या कोई अन्य व्यक्ति जिला कार्यक्रम अधिकारी या जिला बाल संरक्षण अधिकारी से भी संपर्क कर सकता है।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है