×

सभी को कोरोना के टीके क्यों नहीं लगाए जा रहे, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिया जवाब

देश में कोरोना के एक्टिव केस में 58 फीसदी मामले अकेले महाराष्ट्र के

सभी को कोरोना के टीके क्यों नहीं लगाए जा रहे, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिया जवाब

- Advertisement -

नई दिल्ली। भारत में क्यों सभी लोगों को कोरोना का टीका (Corona Vaccine) नहीं लगाया जा रहा और क्यों सभी लोगों कोरोना का टीका अभी नहीं लगाया जाएगा। इस बात का जवाब एक बार फिर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जाब दिया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण (Rajesh Bhushan) ने बताया कि कई लोग उनसे पूछते हैं कि सभी के लिए टीकाकरण की शुरुआत क्यों नहीं की जा रही है। उन्होंने कहा कि ऐसे टीकाकरण अभियानों (Vaccination Campaigns) के दो लक्ष्य होते हैं। पहला बीमारी से होने वाली मौतों को रोकना और दूसरा स्वास्थ्य व्यवस्था को बचाने रखना। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण (Union Health Secretary Rajesh Bhushan) ने बताया कि लक्ष्य यह नहीं है कि जो लोग कोरोना का टीका (Corona Vaccine) खरीद सकते हैं उन्हें पहले टीका लगा दिया जाए बल्कि लक्ष्य यह है कि पहले टीका उन्हें लगाया जाए जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।


यह भी पढ़ें: #HP_Corona: आज 428 केस और 456 ठीक- पांच की गई जान

इसके अलावा केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव (Union Health Secretary) ने जानकारी दी कि कोरोना के कारण पंजाब और छत्तीसगढ़ में सामने आए मौत के आंकड़े चिंता का विषय है। इसके अलावा केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि इस समय देश में जितने कोरोना के एक्टिव केस (Corona Active Case) हैं उनमें से 58 फीसदी मामले अकेले महाराष्ट्र राज्य में हैं। यही नहीं, देश में कुल दर्ज की गई मौतों के आंकड़े में भी महाराष्ट्र (Maharashtra) की हिस्सेदारी 34 फीसदी है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में आज अब तक #Corona के 119 केस और 445 ठीक- 2 की मृत्यु

राजेश भूषण (Rajesh Bhushan) ने बताया कि देश के सिर्फ 10 जिलों में ही इस समय कोरोना के सबसे ज्यादा सक्रिय मामले हैं। इनमें से सात जिले महाराष्ट्र, एक जिला कर्नाटक, एक जिला छत्तीसगढ़ का और एक जिला दिल्ली का है। साथ उन्होंने बताया कि देश में कुल कोरोना (Corona) मामलों में से 92 फीसदी मरीज ठीक हो चुके हैं। इसके अलावा 1.3 फीसदी मरीजों की मौत हुई है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव (Union Health Secretary) ने कहा कि राज्य सरकारों को आरटी-पीसीआर (RTPCR) जांच की संख्या बढ़ाने की सलाह दी गई है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है