Covid-19 Update

57,019
मामले (हिमाचल)
55,464
मरीज ठीक हुए
955
मौत
10,595,061
मामले (भारत)
96,228,754
मामले (दुनिया)

भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक गुड न्यूज, #GST का 1.15 लाख करोड़ रिकार्ड कलेक्शन

जीएसटी के लिए 44,641 करोड़ और एसजीएसटी के लिए 45,485 करोड़ रुपये

भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक गुड न्यूज, #GST का 1.15 लाख करोड़ रिकार्ड कलेक्शन

- Advertisement -

नव वर्ष के पहले दिन भारतीय अर्थव्यवस्था( Indian Economy) के लिए एक गुड न्यूज ( Good News)आई है। दिसंबर में गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) कलेक्शन रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। जबसे लागू हुआ है तब से सर्वाधिक है। जुलाई 2017 से देश में जीएसटी लागू होने के बाद यह सबसे ज्यादा है। दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन( GST Collection) 1.15 लाख करोड़ रुपए के सर्वकालिक उच्च स्तर को छुआ। नवंबर से 31 दिसंबर तक कुल 87 लाख जीएसटीआर-3बी रिटर्न दाखिल किए गए। इससे साफ पता चलता है कि अर्थव्यवस्था में सुधार तेजी से हो रहा है।

यह भी पढ़ें: मजदूर को मिला साढ़े तीन करोड़ की GST चोरी का नोटिस, पढ़े क्या था पूरा माजरा

वित्त मंत्रालय के बयान के अनुसार दिसंबर 2020 के महीने में सकल GST राजस्व संग्रह 1,15,174 करोड़ रुपये रहा है, जिसमें (Central GST) CGST- 21,365 करोड़ रुपये, (State GST) SGST- 27,804 करोड़ रुपये, IGST- 57,426 करोड़ रुपये (माल के आयात पर एकत्र ₹ 27,050 करोड़ सहित) और ₹ 8,579 करोड़ उपकर (माल के आयात पर एकत्र ₹ 971 करोड़) शामिल है. नवंबर महीने के लिए 31 दिसंबर 2020 तक दाखिल किए गए GSTR-3B रिटर्न की कुल संख्या 87 लाख है। सरकार ने Integrated GST यानी IGST से 23.276 करोड़ रुपये CGST और 17,681 करोड़ रुपये SGST के तौर पर से निपटान किया है। IGST के निपटान के बाद दिसंबर 2020 में केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा अर्जित कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 44,641 करोड़ और एसजीएसटी के लिए 45,485 करोड़ रुपये है।

जीएसटी राजस्व में सुधार के हालिया रुझानों के अनुरूप राजस्व संग्रह ने लगातार तीसरे महीने एक लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार किया। दिसंबर 2020 में कुल राजस्व संग्रह दिसंबर 2019 के मुकाबले 12 प्रतिशत अधिक था। दिसंबर में केंद्रीय जीएसटी संग्रह 21,365 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी संग्रह 27,804 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी 57,426 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात पर एकत्र 27,050 करोड़ रुपये सहित) और उपकर 8,550 करोड़ रुपये (आयात पर एकत्र 971 करोड़ रुपये सहित) रहा।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है