Covid-19 Update

2, 85, 010
मामले (हिमाचल)
2, 80, 811
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,138,393
मामले (भारत)
527,715,878
मामले (दुनिया)

भारत के इन शहरों में एक लाख लोगों को मौत की नींद सुला चुका है वायु प्रदूषण

स्वास्थ्य पर सबसे खराब प्रभाव होने की संभावना

भारत के इन शहरों में एक लाख लोगों को मौत की नींद सुला चुका है वायु प्रदूषण

- Advertisement -

नई दिल्ली। वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से समय से पहले मरने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि दक्षिण एशिया के शहरों में सबसे ज्यादा है। एक शोध के अनुसार, भारत में वायु प्रदूषण ने मुंबई, बैंगलोर, कोलकाता, हैदराबाद, चेन्नई, सूरत, पुणे और अहमदाबाद में अनुमानित 1,00,000 लोगों की अकाल मृत्यु का कारण बना है। बर्मिघम विश्वविद्यालय और यूसीएल के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि तेजी से बढ़ते उष्णकटिबंधीय शहरों में 14 वर्षो में लगभग 1,80,000 परिहार्य मौतें वायु प्रदूषण तेजी से बढ़ने के कारण हुई। वैज्ञानिकों की अंतर्राष्ट्रीय टीम ने 2005 से 2018 के लिए नासा और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) के उपग्रहों से अंतरिक्ष-आधारित अवलोकनों का उपयोग करके अफ्रीका, एशिया और मध्य पूर्व में 46 भविष्य के मेगासिटीज के लिए वायु गुणवत्ता में डेटा अंतराल को कम करने का लक्ष्य रखा है। शोध में जिन शहरों का विश्लेषण किया गया, वे हैं : अफ्रीका : आबिदजान, अबुजा, अदीस अबाबा, एंटानानारिवो, बमाको, ब्लैंटायर, कोनाक्री, डकार, दार एस सलाम, इबादान, कडुना, कंपाला, कानो, खार्तूम, किगाली, किंशासा, लागोस, लिलोंग्वे, लुआंडा, लुबुम्बाशी, लुसाका, मोम्बासा, एन’जामेना, नैरोबी, नियामी और औगाडौगौ।

यह भी पढ़ें- कोविड की बूस्टर डोज के लिए 150 रुपये तक सेवा शुल्क वसूल सकते हैं निजी वैक्सीन सेंटर

दक्षिण एशिया : अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, चटगांव, ढाका, हैदराबाद, कराची, कोलकाता, मुंबई, पुणे और सूरत।

दक्षिण पूर्व एशिया : बैंकॉक, हनोई, हो ची मिन्ह सिटी, जकार्ता, मनीला, नोम पेन्ह और यांगून।

मध्य-पूर्व : रियाद और सना

साइंस एडवांस में 8 अप्रैल को प्रकाशित, अध्ययन से वायु गुणवत्ता में तेजी से गिरावट और स्वास्थ्य के लिए खतरनाक वायु प्रदूषकों के शहरी जोखिम में वृद्धि का पता चलता है। सभी शहरों में लेखकों ने पाया कि प्रदूषकों में नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (एनओ2) के लिए 14 प्रतिशत तक और सूक्ष्म कणों (पीएम2.5) के लिए आठ प्रतिशत तक, साथ ही पूर्ववर्ती में वृद्धि के लिए सीधे खतरनाक प्रदूषकों में महत्वपूर्ण वार्षिक वृद्धि हुई है। पीएम2.5 अमोनिया के लिए 12 प्रतिशत तक और प्रतिक्रियाशील वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों के लिए 11 प्रतिशत तक।शोधकर्ताओं ने हवा की गुणवत्ता में इस तेजी से गिरावट के लिए उभरते उद्योगों और आवासीय स्रोतों- जैसे सड़क यातायात, कचरा जलाने और लकड़ी का कोयला और ईंधन लकड़ी के व्यापक उपयोग को जिम्मेदार ठहराया। प्रमुख लेखक कर्ण वोहरा (यूसीएल भूगोल), जिन्होंने बर्मिघम विश्वविद्यालय में पीएचडी छात्र के रूप में अध्ययन पूरा किया, ने कहा कि भूमि निकासी और कृषि अपशिष्ट निपटान के लिए बायोमास के खुले जलने से पहले उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में वायु प्रदूषण का अत्यधिक प्रभुत्व रहा है।हमारे विश्लेषण से पता चलता है कि हम इन शहरों में वायु प्रदूषण के एक नए युग में प्रवेश कर रहे हैं, एक वर्ष में गिरावट की कुछ अनुभव दरों के साथ अन्य शहरों में एक दशक में अनुभव होता है।

वैज्ञानिकों ने यह भी पाया कि जनसंख्या वृद्धि और तेजी से गिरावट के संयोजन के कारण पीएम2 के लिए 46 शहरों में से 40 और पीएम2.5 के लिए 46 शहरों में से 33 शहरों में वायु प्रदूषण के लिए शहरी आबादी के जोखिम में 1.5 से चार गुना वृद्धि हुई है। शोध के अनुसार, वायु प्रदूषण के संपर्क में आने पर समय से पहले मरने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि दक्षिण एशिया के शहरों में सबसे अधिक है, विशेष रूप से बांग्लादेश में ढाका (कुल 24,000 लोग) और मुंबई, बैंगलोर, कोलकाता, हैदराबाद, चेन्नई, सूरत, पुणे और अहमदाबाद जैसे भारतीय शहरों में (कुल 1,00,000 लोग)। शोधकर्ताओं का कहना है कि अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय शहरों में हुई मौतों की संख्या इस समय कम है, महाद्वीप भर में स्वास्थ्य देखभाल में हालिया सुधार के परिणामस्वरूप समग्र समयपूर्व मृत्युदर में गिरावट आई है, स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण का सबसे खराब प्रभाव आने वाले दशकों में होने की संभावना है।

–आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है