हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022

BJP

0

INC

0

अन्य

0

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

मोदी मैजिक के सहारे बीजेपी-विधायकों की बलि चढ़ाना गले की फांस तो नहीं!

भगवां पार्टी सरकार से जुड़े मसलों पर चुनौतियों से जूझ रही

मोदी मैजिक के सहारे बीजेपी-विधायकों की बलि चढ़ाना गले की फांस तो नहीं!

- Advertisement -

हिमाचल में सत्ता के लिए चुनावी मैदान सज चुका है। इस पहाड़ी राज्य में पिछले तीन दशक से भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) और कांग्रेस बीच सत्ता का खेल चल रहा है। हालांकि, इस बार बीजेपी यह चक्र तोड़ने के लिए रिवाज बदलने का नारा दिए हुए है। बावजूद इसके जयराम सरकार चुनावी मुद्दों से ज्यादा पीएम नरेंद्र मोदी के नाम पर भरोसा करती नजर आ रही है। भगवां पार्टी ने कैंडिडेट तय करने की प्रक्रिया के दौरान 11 मौजूदा विधायकों के टिकट काट दिए हैं। कहा जा रहा है कि सत्ता विरोधी लहर से निपटने के लिए पार्टी ने ऐसा किया। जो कहीं ना कहीं भगवां पार्टी के गले की फांस बन गए है। पार्टी प्रदेश सरकार से जुड़े कई मुद्दों पर चुनौतियों का सामना कर रही है। भगवां पार्टी पर खराब शासन (Poor Governance) के आरोप लग रहे हैं। सीएम कार्यालय में बीते पांच वर्षों में 6 मुख्य सचिव बदले जा चुके हैं।

यह भी पढ़ें- कांगड़ा जिला की इस सीट पर हमेशा बीजेपी के बागियों ने बिगाड़ा है अपनो का खेल

हिमाचल में चुनावी माहौल बनते ही पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) लगातार राज्य के दौरे कर रहे हैं। वह, अक्टूबर में दो बार राज्य में पहुंचे और कई विकास योजनाओं का ऐलान किया। पीएम भी डबल इंजन सरकार की जरूरत की बात कहते रहे हैं। बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा (BJP President JP Nadda) को लगातार हिमाचल में कैंप करना पड रहा है। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) भी अपनी जनसभाओं में मुख्यमंत्री गृहिणी योजना, (Mukhyamantri Swavalamban Yojan) मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना, मुख्यमंत्री शगुन योजना, नारी को नमन योजना के बारे में जोर देकर बात कर रहे हैं।

दूसरी तरफ कांग्रेस (Congress) ने सितंबर में ही घोषणापत्र जारी कर दिया था। इसकी 10 चुनावी गारंटी में मुफ्त बिजली, 18.60 आयु वर्ग की महिलाओं को 1500 रुपए का भत्ता, पुरानी पेंशन स्कीम (Old Pension Scheme) की बहाली, 2 रुपए प्रति किलो गाय के गोबर की खरीदी की बात शामिल थी। आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) भी हिमाचल में सत्ता में आने पर पुरानी पेंशन योजना की बहाली की बात कर रही है। बीजेपी इस बात को लेकर भी परेशान है कि रिवाज बदलने की बात तो कर रही है लेकिन वर्ष 2017 के आंकड़ों को देखकर डर रही है। वर्ष 2017 में बीजेपी सत्ता में तो आई थी लेकिन कई सीटों पर करीबी मुकाबला रहा था। आंकड़े बताते हैं कि 68 में से 20 सीटों पर जीत का अंतर 3000 हजार वोट से भी कम था। जबकि, छह सीटें ऐसी थी, जहां जीत का अंतर एक हजार मतों से कम था। ऐसे में इस मर्तबा तो बीजेपी को प्रदेश में एंटी इंकम्बेंसी (Anti-Incumbency) का भी सामना करना होगा। इसलिए ही बीजेपी इस पहाड़ी राज्य में मोदी मैजिक (Modi magic) पर ज्यादा विश्वास कर रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है