Covid-19 Update

2, 84, 982
मामले (हिमाचल)
2, 80, 760
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,128,786
मामले (भारत)
525,038,134
मामले (दुनिया)

आईएएस ट्रेनिंग में कुल्लू के गुरहर्ष को हिमाचल में पहली बार मिला राष्ट्रपति गोल्ड मेडल

शमशी के रहने वाले गुरहर्ष मसूरी में ले रहे आईएएस की ट्रेनिंग

आईएएस ट्रेनिंग में  कुल्लू के गुरहर्ष को हिमाचल में पहली बार मिला राष्ट्रपति गोल्ड मेडल

- Advertisement -

कुल्लू। गुरहर्ष (Gurharsh) ने पूरे देश में हिमाचल का नाम ऊंचा किया है। कुल्लू के शमशी के रहने वाले गुरहर्ष ने प्रदेश में पहली बार राष्ट्रपति गोल्ड मेडल (President’s Gold Medal) हासिल किया है। राष्ट्रपति गोल्ड मेडल मिलने से गुरहर्ष के घर में खुशी का माहौल है। बता दें, गुरहर्ष इन दिनों मसूरी (Mussoorie) में आईएएस की ट्रेनिंग कर रहा है। गुरहर्ष की शुरुआती पढ़ाई 10वीं तक कुल्लू के ओएलएस में हुई, इसके बाद केवीएस में ग्याहरवीं की परीक्षा में हिमाचल शिक्षा बोर्ड (Himachal Education Board) में प्रथम स्थान हासिल किया और बाहरवीं की परीक्षा में प्रदेश भर में पांचवें स्थान पर रहे।

यह भी पढ़ें:एफआईएच हॉकी महिला जूनियर विश्व कप में रोमांचक शूटआउट में हारा भारत, कांस्य पदक गंवाया

इसके बाद हिंदू कॉलेज दिल्ली से बीएससी और फिजिक्स में स्नातक की। उसके बाद आईआईटी रुड़की (IIT Roorkee) से एमएससी फिजिक्स में टॉपर रहे। वर्ष 2020-21 में यूपीएससी परीक्षा ऑल इंडिया (UPSC Exam All India) में सातवें रेंक पर पास की और वर्तमान में मसूरी में आईएएस की ट्रैनिंग चली है। गुरहर्ष की माता हरिंदर जीत कौर जो टीजीटी साइंस (TGT Science) रही है और पिता अवतार सिंह ने बताया कि गुरहर्ष को पढ़ाई के साथ-साथ संगीत में भी रुचि है।

यह भी पढ़ें:हिमाचल की बेटी ने चमकाया नाम, तान्या ने पहना मिस इंडिया नॉर्थ जोन का ताज

स्कूल समय में सूत्रधार संगीत अकादमी में पंडित विद्यासागर शर्मा (Pandit Vidyasagar Sharma) से तबला वादन और शास्त्रीय गायन की दो वर्ष तक शिक्षा ली। पंडित विद्यासागर ने बताया कि गुरहर्ष सिंह बेहतरीन एंकर (Anchor) भी हैं। गुरहर्ष सिंह के माता-पिता ने कहा कि हमें अपने पुत्र पर गर्व है। गुरहर्ष ने जो राष्ट्रपति स्वर्ण पदक हासिल किया है, वह हिमाचल का पहला स्वर्ण पदक (Himachal’s first gold medal) है।

यह भी पढ़ें:हफ्ते में सिर्फ दो दिन पढ़ाई करती थी ये ऑफिसर, UPSC परीक्षा में पाया 11वां रैंक

वर्तमान में गुरहर्ष सिंह लाल बहादुर शास्त्री अकादमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन में अध्ययनरत है। वहीं, गुरहर्ष के पिता ने कुल्लू (Kullu) के युवाओं को भी संदेश दिया कि गुरहर्ष की तरह वे भी मेहनत करें। उन्होंने कहा कि जो कुल्लू का बेटा गुरहर्ष की तरह मेहनत करेगा और वहां पहुंचेगा उसे वे दो लाख का इनाम भी देंगे, ताकि सभी युवाओं को आगे बढ़ने की हिम्मत मिल सके।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है