Covid-19 Update

2, 85, 044
मामले (हिमाचल)
2, 80, 865
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,148,500
मामले (भारत)
531,112,840
मामले (दुनिया)

Bluetooth को क्यों मिला ऐसा अजीबोगरीब नाम, जानें क्या है इतिहास

एक राजा के नाम पर इस टेक्नोलॉजी का नाम रखा गया ब्लूटूथ

Bluetooth को क्यों मिला ऐसा अजीबोगरीब नाम, जानें क्या है इतिहास

- Advertisement -

विश्व भर में हर किसी का जीवन टेक्नोलॉजी पर निर्भर है। ब्लूटूथ (Bluetooth) नाम की टेक्नोलॉजी यूजर फ्रेंडली मानी जाती है। काफी लंबे समय से लोग ब्लूटूथ की मदद से बिना किसी वायर के फाइल का आदान प्रदान कर रहे हैं। अगर ब्लूटूथ का हिंदी ट्रांसलेशन नीला दांत निकल कर आता है। आज हम आपको बताएंगे कि कैसे ब्लूटूथ का नाम ब्लूटूथ पड़ा।

यह भी पढ़ें: व्हाट्सएप बिजनेस ने ऐड किया का नया सर्च फिल्टर, जानिए क्या है खासियत

बता दें कि स्कॅन्डिनेवियन राजा Harald Bluetooth Gormsson को इतिहास में 958 डेनमार्क और नॉर्वे को एकजुट करने के लिए भी जाना जाता था। राजा हेराल्ड के पास एक विशिष्ट मृत दांत था, जो वास्तव में नीले रंग का था, जिसके चलते राजा हेराल्ड को ब्लूटूथ कहा जाने लगा। वहीं, इस राजा के नाम पर ही इस टेक्नोलॉजी का नाम ब्लूटूथ रखा गया। ब्लूटूथ के मालिक Jaap HeartSen, Ericsson कंपनी में रेडियो सिस्टम का काम करते थे। इस दौरान Ericsson के साथ नोकिया, इंटेल जैसी कंपनियां भी इस पर काम कर रही थी, जिसके चलते फिर ऐसी ही बहुत कंपनियों के साथ मिलकर special interest group नाम का एक गठन बनाया गया।

ये है कारण

ब्लूटूथ इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को आपस में जोड़ने का काम करता है, वैसे ही किंग हेराल्ड ब्लूटूथ ने दो राज्यों को आपस में जोड़ा था। जिस कारण ब्लूटूथ बनाने वाली टीम के सदस्य ने उस टेक्नोलॉजी के लिए ब्लूटूथ का नाम सुझाया, जो सबको पसंद आया और इस टेक्नोलॉजी का नाम ब्लूटूथ रख दिया गया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है