Covid-19 Update

2, 84, 952
मामले (हिमाचल)
2, 80, 739
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,125,370
मामले (भारत)
523,236,943
मामले (दुनिया)

एचआरटीसी कर्मचारी बोले, गिनने को परिवहन मंत्री ने बहुत कुछ दिया, मिला झुनझुना ही

लंबित पड़े देय वित्तीय देनदारियों की घोषणा की आस लगाए बैठे कर्मचारी

एचआरटीसी कर्मचारी बोले, गिनने को परिवहन मंत्री ने बहुत कुछ दिया, मिला झुनझुना ही

- Advertisement -

शिमला। छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा के बाद हिमाचल परिवहन कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति ने परिवहन मंत्री (Transport Minister) के खिलाफ मोर्चा खोल दिया हैं। समिति ने परिवहन मंत्री पर एचआरटीसी कर्मचारियों (HRTC Employees) को फिर से आश्वासन का झुनझुना दिखाने का आरोप लगा है। एचआरटीसी कर्मचारियों को इस बैठक से उम्मीद थी कि बैठक में परिवहन मंत्री छठे वेतन आयोग (6th pay commission) की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा के साथ-साथ कर्मचारियों के लंबित पड़े देय वित्तीय देनदारियों की घोषणा करेंगे, परंतु ऐसा कुछ भी नहीं हो सका, बल्कि परिवहन मंत्री का ब्यान पूर्व की भांति रटा-रटाया है। गिनने के लिए तो बहुत कुछ कहा गया है, परंतु न तो एचआरटीसी (HRTC) की आय में इजाफा हो रहा है और न ही एचआरटीसी के कर्मचारियों की देय देनदारिया समय पर दी जा रही है।

यह भी पढ़ें:एचआरटीसी कर्मियों ने बिना वेतन विसंगतियों के मांगा नया पे स्केल

कुर्सी छोड़ने के बाद दिखेगा प्रयासों का असर

एचआरटीसी पर बोझ डालने के लिए तरह-तरह की घोषणाएं की जा रही है। पता नहीं, इनके प्रयासों का असर इनके कुर्सी छोड़ने के पश्चात दिखाई देगा। मंत्री महोदय तो कर्मचारियों को देय वेतन भत्तों (Payable Allowances) को भी अपनी उपलब्धि व कर्मचारियों के लाभ की श्रेणी में गिन रहे हैं। पीसमील कर्मचारियों (Piecemeal Employees) को अनुंबध पर लाने के लिए भी पूरे चार वर्ष लटकाकर रखा, अंत में उन्हें पुरानी नीति के अनुसार ही अनुबंध पर लाया गया, उसे भी अपनी उपलब्धि गिन रहे हैं। इससे एचआरटीसी के कर्मचारियों (HRTC Employees ) में भारी रोष उत्पन्न हो गया है।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: ए-श्रेणी में आएंगे 200 करोड़ निवेश करने वाले उद्योग, संशोधित की निवेश नीति

समन्वय समिति ने सात अप्रैल को प्रबंध निदेशक के साथ हुई बैठक में स्पष्ट कर दिया था कि यदि कर्मचारियों को छठे वेतन आयोग की सिफारिशें एवं अन्य लंबित देय वित्तीय देनदारियों की अदायगी 15 दिनों के भीतर नहीं की जाती और परिवहन निगम (Transport Corporation) को रोडवेज का दर्जा देने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए जाते तो कर्मचारियों को मजबूर होकर आंदोलप का रास्ता अपनाना पड़ेगा, इसलिए संयुक्त समन्वय समिति ने फैसला लिया है कि आठ मई को जिला बिलासपुर (Bilaspur) में एचआरटीसी के कर्मचारियों की एक आम सभा का आयोजन करेंगे, जिसमें विचार-विमर्श कर कर्मचारियों के हक हकुक हासिल करने के लिए आगामी रूपरेखा तैयार की जाएगी।

यह भी पढ़ें:HRTC कर्मियों को छठे वेतन आयोग के लाभ देने पर परिवहन मंत्री बिक्रम सिंह का बड़ा बयान, जाने क्या बोले

कर्मचारियों ने उठाई ये मांगें

हिमाचल परिवहन कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति के अध्यक्ष समर चौहान, उपाध्यक्ष पूर्ण चंद शर्मा, सचिव खेमेंद्र गुप्ता, प्रवक्ता संजय कुमार, कोषाध्यक्ष जगदीश चंद और हितेंद्र कंवर, गोपाल लाल, देवी चंद, देस राज, राय सिंह, धनी राम, सुख राम, प्रेम सिंह, अनित कुमार, ऋषि लाल, संजीव कुमार, नवल किशोर, टेक चंद, विजय कुमार, यशपाल सुल्तानपुरी, सुशील कपरेट व दलीप शर्मा ने सरकार व निगम प्रबंधन से पुनः मांग की है कि एचआरटीसी के कर्मचारियों की विभिन्न श्रेणियों की वेतन विसंगतियों को दूर कर छठे वेतन आयोग के लाभ के साथ-साथ अन्य लंबित देय वित्तीय देनदारियों की अदायगी सेवारत एवं सेवानिवृत कर्मचारियों को शीघ्र जारी किया जाए।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है