Covid-19 Update

2,01,054
मामले (हिमाचल)
1,95,598
मरीज ठीक हुए
3,446
मौत
30,082,778
मामले (भारत)
180,423,381
मामले (दुनिया)
×

Operation Blue Star की बरसी पर अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में लगे ‘खालिस्तान समर्थित’ नारे

Operation Blue Star की बरसी पर अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में लगे ‘खालिस्तान समर्थित’ नारे

- Advertisement -

अमृतसर। ऑपरेशन ब्लू स्टार (Operation Blue Star) को आज 36 साल पूरे हो गए हैं। वर्ष 1984 में भारतीय सेना ने स्वर्ण मंदिर (Golden temple) के अंदर ऑपरेशन ब्लूस्टार चलाया था। ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी के मौके पर शनिवार को अमृतसर (पंजाब) के स्वर्ण मंदिर परिसर में ‘सिख कट्टरपंथियों‘ द्वारा खालिस्तान समर्थित नारे लगाए गए। अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा, ‘इसमें कुछ गलत नहीं है। अगर सरकार हमें खालिस्तान (Khalistan) का प्रस्ताव देती है तो हम इसे स्वीकार करेंगे क्योंकि हर सिख यह चाहता है।’

यह भी पढ़ें: India-China Border Dispute: चुशूल के लिए रवाना हुए भारतीय सैन्य अधिकारी , कुछ देर में होगी बैठक

अकाली दल अमृतसर के कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस कर्मचारियों की हाथापाई हुई

मिली जानकारी के अनुसार सुबह 6:00 बजे अकाली दल अमृतसर के कार्यकर्ता जोड़ा घर के पास पहुंच गए और श्री हरमंदिर साहिब के अंदर जबरन प्रवेश करने लगे। इसके बाद अकाली दल अमृतसर के कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस कर्मचारियों की हाथापाई हुई। रिपोर्ट्स के मुताबिक़ शिरोमणि अकाली दल-अमृतसर (SAD) के अध्यक्ष और पूर्व सांसद सिमरजीत सिंह मान (Simranjit Singh Mann) के बेटे ईमान सिंह मान के नेतृत्व में करीब 100 कार्यकर्ताओं ने ‘खालिस्तान समर्थित’ नारे लगाए। मान के नेतृत्व वाले एक समूह के नेतृत्व में अकाल तख्त के समानांतर जत्थेदार ध्यान सिंह मंड ने स्वर्ण मंदिर में प्रवेश कर सभा को संबोधित किया।


यह भी पढ़ें: Corona ने तोड़ा रिकार्डः देश में 24 घंटे में सबसे ज्यादा मौतें, दुनिया में छठे नंबर पर पहुंचा India

ऑपरेशन ब्लू स्टार की वर्षगांठ पर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर थीं

पिछली वर्षगांठ के दौरान हुई हिंसक झड़पों के मद्देनजर, ऑपरेशन ब्लू स्टार की वर्षगांठ से पहले ही राज्य की राजधानी चंडीगढ़ से लगभग 250 किलोमीटर दूर इस पवित्र शहर अमृतसर में और उसके आसपास सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर थीं। ऑपरेशन ब्लू स्टार भारतीय सेना द्वारा दरबार साहिब परिसर में 1 से 8 जून, 1984 के बीच किया गया था। हर साल कट्टरपंथी सिख संगठन दल खालसा द्वारा परिसर के भीतर भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों को बाहर निकालने के लिए चलाए जा रहे सेना के ऑपरेशन की सालगिरह पर अकाल तख्त पर प्रार्थना की जाती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है