Covid-19 Update

2,17,140
मामले (हिमाचल)
2,11,871
मरीज ठीक हुए
3,637
मौत
33,501,851
मामले (भारत)
229,513,714
मामले (दुनिया)

Himachal में 34 फीसदी कम हुई बारिश, पहली अगस्त तक वर्षा-अंधड़ की चेतावनी

Himachal में 34 फीसदी कम हुई बारिश, पहली अगस्त तक वर्षा-अंधड़ की चेतावनी

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल में एक बार फिर भारी बारिश (Heavy Rain) का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला (Meteorological Center Shimla) ने तीन अगस्त तक बारिश का पूर्वानुमान जताया है। जबकि प्रदेश में पांच दिन तक भारी बारिश और अंधड़ की चेतावनी जारी की गई है। शिमला मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि प्रदेश में पहली अगस्त तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। हिमाचल में अभी तक पिछले साल की उपेक्षा इस वर्ष मानसून में कम बारिश हुई है। मौसम विभाग के निदेशक ने कहा कि प्रदेश में जुलाई महीने में मानसून 34 प्रतिशत कम है।

यह भी पढ़ें: Shimla में बारिश की फुहारें, अंधड़ और भारी बारिश की भी चेतावनी जारी- जाने मौसम के हाल

मौसम विभाग ने 28, 30, 31 जुलाई और पहली अगस्त को प्रदेश में भारी बारिश-अंधड़ (Heavy Rain and Storm) का येलो अलर्ट जारी किया है। 29 जुलाई को बिलासपुर, हमीरपुर, चंबा, कांगड़ा, मंडी, शिमला, सोलन और सिरमौर के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। हालांकि कुल्लू, लाहुल-स्पीति, ऊना, और किन्नौर जिले के लिए किसी तरह का अलर्ट नहीं है। वहीं, राजधानी शिमला में मंगलवार को मौसम खराब रहा। मंगलवार सुबह करीब 11 बजे बारिश हुई। दोपहर बाद शहर में मौसम साफ हो गया। जिला कांगड़ा में सोमवार देर रात से लेकर मंगलवार दोपहर तक धर्मशाला, दाड़ी, सकोह, गगल, कांगड़ा के आसपास के अधिकतर हिस्सों में लगातार बारिश हुई।

इसके अलावा जिला कांगड़ा में भी झमाझम बारिश हुई। धर्मशाला (Dharamshala) में सबसे अधिक 89 मिलीमीटर बारिश दर्ज हुई। गगल के पास समीरपुर में मांझी खड्ड के उफान पर आने से वहां एक बुजुर्ग फंस गया। जिसे स्थानीय प्रशासन ने  बुजुर्ग को सुरक्षित बाहर निकाला। पालमपुर, भवारना, बैजनाथ सहित आसपास के क्षेत्रों में दोपहर तक तेज बारिश हुई। इसी तरह से जिला कुल्लू (Kullu) में सोमवार रात को कई इलाकों में भारी बारिश हुई। पागलनाला लोगों के लिए परेशानी बन गया है। बारिश से 14 किलोमीटर लंबे न्यूली-शैंशर मार्ग पर चट्टानों के गिरने का क्रम जारी है। इस पर मंगलवार सुबह भी एक विशालकाय चट्टान आने से मार्ग बंद हो गया और लोगों को पैदल ही गंतव्य की ओर रवाना होना पड़ा। मानसून आने के बाद लारजी-सैंज मार्ग कई बार बंद हो गया है। मनाली-लेह मार्ग पर मलबा गिरने तथा पत्थरों के गिरने का क्रम जारी रहा। लेकिन वाहनों की आवाजाही सामान्य चलती रही।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है