Covid-19 Update

2,06,027
मामले (हिमाचल)
2,01,270
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,653,380
मामले (भारत)
198,295,012
मामले (दुनिया)
×

सात राज्यों में फैला है डुप्लीकेट एटीएम बनाने वाले युवकों का नेटवर्क, 20 वर्ष से कम आयु के हैं सभी

एसपी मंडी ने किया खुलासा- इन युवाओं ने खुद को हरियाणा का रहने वाला बताया है

सात राज्यों में फैला है डुप्लीकेट एटीएम बनाने वाले युवकों का नेटवर्क, 20 वर्ष से कम आयु के हैं सभी

- Advertisement -

मंडी। डुप्लीकेट एटीएम बनाकर ठगी करने वाले गिरोह का गोरखधंधा( Fraud) उत्तर भारत के सात से अधिक राज्यों ( More than seven states)में फैला हुआ है। हैरान करने वाली बात यह भी है कि इस गोरखधंधे को अंजाम देने वाले सभी युवा 20 वर्ष से भी कम आयु के हैं। यह खुलासे आज एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने मीडिया से बातचीत के दौरान किए। बता दें कि पिछले कल मंडी जिला पुलिस ने मंडी शहर में डुप्लीकेट एटीएम ( Duplicate ATM)बनाकर ठगी करने वाले गिरोह के तीन लोगों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। इनसे पुलिस को अभी तक 2 स्कीमिंग डिवाइस, 7 सिम कार्ड, 3 मोबाइल फोन, 25 एटीएम कार्ड और 2 लाख 89 हजार की नकदी बरामद हुई है। यह तीन युवा बीती 28 जनवरी को पठानकोट से होते हुए मंडी आए थे और यहां एक होटल में रूके हुए थे। 31 जनवरी और 1 फरवरी को यह कुल्लू भी गए थे। एसपी मंडी ने बताया कि अभी तक की पूछताछ में इन युवाओं ने खुद को हरियाणा का रहने वाला बताया है और यह भी बताया कि इनकी यह ठगी जम्मू कश्मीर, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में चल रही थी। हिमाचल में अभी इनका आगमन हुआ ही था कि पुलिस ने इन्हें धर दबोचा है।

ये भी पढ़ेः डुप्लीकेट ATM बना पैसे निकालने वाले गिरोह के तीन सदस्य धरे, मंडी में कर रहे थे फ्रॉड

 


 

इन युवाओं ने किसी सॉफ्टवेयर की मदद से स्कीमिंग डिवाइस बनाए हैं। जिनके पास जीएसएम चिप वाले एटीएम नहीं हैं यह उन्हीं को अपना शिकार बना रहे हैं। एटीएम रूम में पहले से अपनी मौजूदगी रखते हुए यह युवा मदद के बहाने से एटीएम को लेकर उसे स्कैन कर देते हैं और चुपके से उसका पिन भी देख लेते हैं। उसके बाद यह उसका डुप्लीकेट एटीएम बनाकर फिर ठगी को अंजाम देते हैं। मंडी जिला में अभी तक ऐसी दो शिकायतें आई हैं जिनपर पुलिस कार्रवाई कर रही है। इनके निशाने पर हिमाचल प्रदेश स्टेट को-आप्रेटिव बैंक के ही एटीएम थे। इसमें मंडी और सुंदरनगर के एटीएम मुख्य रूप से शामिल हैं। शालिनी अग्निहोत्री ने लोगों से अपील की है कि वह किसी भी अंजान व्यक्ति को अपना एटीएम न दें और न ही पिन बताएं। उन्होंने बताया कि युवा किस तरह से धोखाधड़ी कर रहे थे उसको लेकर पूरा एक डैमो वीडियो बनाकर लोगों को इस फ्रॉड के प्रति जागरूक किया जाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है