Covid-19 Update

2,86,414
मामले (हिमाचल)
2,81,601
मरीज ठीक हुए
4122
मौत
43,502,429
मामले (भारत)
554,235,320
मामले (दुनिया)

अब ऐसे होगी आधार वेरिफिकेशन, जान लें, नहीं तो हो सकती है परेशानी

आप बिना इंटरनेट कर सकेंगे अपने आधार कार्ड की वेरिफिकेशन

अब ऐसे होगी आधार वेरिफिकेशन, जान लें, नहीं तो हो सकती है परेशानी

- Advertisement -

हमारे देश में आधार कार्ड एक अनिवार्य दस्तावेज है। यूआईडीएआई समय-समय पर आधार से संबंधित जानकारियां देती रहती है। अब सरकार ने आधार कार्ड को लेकर एक नया नियम बना दिया है। इस नए नियम के तहत आप अपने आधार कार्ड (Aadhaar Card) की बिना इंटरनेट वेरिफिकेशन कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें:केंद्र सरकार ने वापस ली एडवाइजरी, यहां जानें क्यों करना पड़ा ऐसा

गौरतलब है कि आधार की वेरिफिकेशन के लिए अब आपको डिजिटल तौर पर हस्ताक्षर किया दस्तावेज देना होगा। ये डिजिटली साइन्ड दस्तावेज आधार की सरकारी संस्था यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से जारी होना चाहिए। इस दस्तावेज पर यूजर के आधार नंबर के अंतिम चार अक्षर दिए होते हैं। इस नए नियम के अनुसार, आधार कार्ड
धारक को एक विकल्प दिया जाता है कि वे आधार ई-केवाईसी वेरिफिकेशन के प्रोसेस के लिए अपना आधार पेपरलेस ऑफलाइन e-kyc को किसी अधिकृत एजेंसी को दे सकता है। जिसके बाद एजेंसी आधार कार्ड धारक की ओर दिए गए आधार संख्या और नाम, पता आदि को सेंट्रल डेटाबेस के साथ मिलान करेगा। अगर मिलान सही पाया जाता है तो वेरिफिकेशन की प्रक्रिया आगे बढ़ा दी जाती है।

बता दें कि आधार पेपरलेस ऑफलाइन ई-केवाईसी का मतलब उस डिजिटली साइन्ड दस्तावेज से है, जो यूआईडीएआई की ओर से जारी किया जाता है। इस दस्तावेज में आधार नंबर के अंतिम 4 अक्षर, लिंग, नाम, पता, जन्मतिथि और फोटो की जानकारी होती है। ये नया नियम आधार कार्ड धारक को ये अधिकार देता है कि वे वेरिफिकेशन एजेंसी को कोई भी ई-केवाईसी डाटा स्टोर ना करने के लिए मना कर सकता है।

नियमों के अनुसार, यूआईडीएआई निम्नलिखित प्रकार की ऑफलाइन वेरिफिकेशन सेवाएं देगा, जैसे कि क्यूआर कोड वेरिफिकेशन, आधार पेपरलेस ऑफलाइन ई-केवाईसी वेरिफिकेशन, ई-आधार वेरिफिकेशन और ऑफलाइन पेपर आधारित वेरिफिकेशन। ऑनलाइन आधार वेरिफिकेशन के लिए होल्डर्स के पास कई अन्य मौजूदा सिस्टम हैं।

ऐसे होगी आधार वेरिफिकेशन

आधार कार्ड की ऑनलाइन वेरिफिकेशन के लिए आधार कार्ड धारकों के पास कई अन्य मौजूदा सिस्टम हैं। आधार वेरिफिकेशन के विभिन्न तरीके निम्नलिखित हैं, जो ऑफलाइन विकल्पों के साथ मिलते हैं, जैसे कि डेमोग्राफिक ऑथेंटिकेशन, वन-टाइम पिन आधारित ऑथेंटिकेशन, मल्टी फैक्टर ऑथेंटिकेशन और बायोमेट्रिक आधारित ऑथेंटिकेशन।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है