हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017

BJP

44

INC

21

अन्य

3

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

हिमाचल: “विक्रमादित्य सिंह को छोड़कर अन्य सभी MLA का गंगाजल से होगा शुद्धिकरण”

सवर्ण आयोग के गठन को लेकर पदयात्रा पहुंची नाहन

हिमाचल: “विक्रमादित्य सिंह को छोड़कर अन्य सभी MLA का गंगाजल से होगा शुद्धिकरण”

- Advertisement -

नाहन। हिमाचल प्रदेश में सवर्ण आयोग के गठन की मांग को लेकर 15 नवंबर, 2021 को राजधानी शिमला से शुरू हुई देवभूमि सवर्ण मोर्चा व देवभूमि क्षत्रीय संगठन की पदयात्रा बुधवार देर शाम जिला मुख्यालय नाहन पहुंची। पदयात्रा के तहत जातिगत आरक्षण का विरोध करते हुए शव यात्रा भी निकाली जा रही है। भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी में नाहन पहुंची इस पदयात्रा का सवर्ण समाज के लोगों ने स्वागत किया।

यह भी पढ़ें: हिमाचलः सवर्ण आयोग के गठन की मांग को लेकर क्षत्रिय संगठनों ने शुरू की पदयात्रा

शिमला विधानसभा से शुरू हुई इस पदयात्रा का समापन 10 दिसंबर, 2021 को धर्मशाला में आयोजित शीतकालीन सत्र में होगा। वहीं, बुधवार को प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में समाज के अन्य दलित संगठनों द्वारा सवर्ण आयोग की इस पदयात्रा का विरोध करने वाले लोगों को देवभूमि क्षत्रिय संगठन के प्रदेशाध्यक्ष रुमित सिंह ठाकुर ने जवाब दिया है। रूमित सिंह ठाकुर ने कहा कि देश का संविधान जितना अन्य लोगों का है, उतना सवर्ण समाज से जुड़े लोगों का भी है, न कि किसी विशेष वर्ग के लिए यह संविधान बनाया गया है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: सवर्ण आयोग के गठन को 15 से शिमला से हरिद्वार के लिए निकलेगी पदयात्रा

भीम आर्मी द्वारा सवर्ण आयोग के गठन को लेकर शुरू की गई पदयात्रा का विरोध जताने वालों पर रूमित सिंह ठाकुर ने जवाब देते हुए कहा कि देश में केवल एक ही इंडियन आर्मी है। उन्होंने कहा कि सवर्ण समाज की यह यात्रा शांतिपूर्वक तरीके से आयोजित की जा रही है। इस यात्रा में न किसी जाति, न किसी धर्म व किसी के अधिकारियों के खिलाफ बोला जा रहा है। केवल प्रदेश में सवर्ण समाज के गठन की मांग की जा रही है। उन्होंने कहा कि सवर्ण समाज का इतिहास रहा
है, वह न किसी झुका है और न कभी झुकेगा।

 

रूमित ठाकुर ने कहा कि सवर्ण समाज के लोग जातिगत आरक्षण, एट्रोसिटी एक्ट आदि कानूनों से आहत हैं और इन सब कानूनों का शव यात्रा निकालकर हरिद्वार में पिंडदान किया जाएगा। पिंडदान करने के उपरांत आर्थिक आधार पर आरक्षण का गंगाजल हरिद्वार से लाया जाएगा और करीब 800 किलोमीटर का सफर तय करने के बाद 10 दिसंबर को धर्मशाला शीतकालीन सत्र के दौरान विधानसभा का घेराव किया जाएगा, जहां विधायक विक्रमादित्य सिंह को छोड़कर अन्य सभी विधायकों का गंगाजल से शुद्धिकरण किया जाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है