Covid-19 Update

2, 84, 964
मामले (हिमाचल)
2, 80, 747
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,125,370
मामले (भारत)
523,559,119
मामले (दुनिया)

हिमाचल: बीड़-बीलिंग में सुरक्षित होगी पैराग्लाइडिंग, मोबाइल ऐप से की जाएगी निगरानी

आपरेटरए पायलट का पंजीकरण होगा जरूरी, ट्रेनिंग के लिए भी उठाए जाएंगे कारगर कदम

हिमाचल: बीड़-बीलिंग में सुरक्षित होगी पैराग्लाइडिंग, मोबाइल ऐप से की जाएगी निगरानी

- Advertisement -

धर्मशाला। हिमाचल के विश्व विख्यात पैराग्लाइडिंग साइट बीड़ बीलिंग (Paragliding Site Bir Billing) में अब पैराग्लाइडिंग पूरी तरह से सुरक्षित होगी। प्रशासन ने इसके लिए एक मोबाइल फोन ऐप (Mobile Phone App) लांच करने का प्लान बनाया है। इस मोबाइल ऐप के माध्यम से पर्यटक पैराग्लाइडिंग का व्यवस्थित तरीके से आनंद उठा पाएंगे। यह जानकारी आज डीसी कांगड़ा (DC Kangra) डॉ. निपुण जिंदल ने दी। उन्होंने बताया कि ऐप के माध्यम से पैराग्लाइडर ऑपरेटर तथा पायलट का पंजीकरण जरूरी होगा। इस के साथ ही पैराग्लाइडिंग के रेट भी निर्धारित किए जाएंगे, ताकि पर्यटकों को किसी भी तरह की असुविधा ना हो। इस मोबाइल फोन ऐप के माध्यम से पैराग्लाइडिंग की मॉनिटरिंग भी सुनिश्चित की जाएगी। वहीं बिना पंजीकरण के किसी को भी पैराग्लाइडिंग (Paragliding) की अनुमति नहीं मिलेगी। इसके साथ ही पैराग्लाइडिंग के एयर क्राफ्ट का प्रतीक चिन्ह इत्यादि भी प्रदर्शित किया जाएगाए ताकि बिना पंजीकरण के पैराग्लाइडिंग करने वालों की निगरानी की जा सके।

यह भी पढ़ें: बिलासपुर-भानुपल्ली रेललाइन की सबसे लंबी सुरंग का काम शुरू, जाने कब दौड़ेगी ट्रेन

 

 

सुरक्षित पैराग्लाइडिंग के लिए स्थानीय तकनीकी कमेटी भी गठित की जाएगी जिसमें एसडीएम के माध्यम से आदेश जारी करने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही मौसम को लेकर भी एक कमेटी गठित की जाएगी, जो कि पैराग्लाइडिंग के लिए अनुरूप मौसम होने के बारे में नियमित तौर पर पैराग्लाइडर (Paraglider) का मार्गदर्शन करेगी। पर्यटन विभाग के माध्यम से बीड़ में पैराग्लाइडिंग के पायलट्स को नियमित तौर पर ट्रेनिंग के लिए भी उचित कदम उठाए जाएंगे। इस के लिए बीड़ में पायलट के लिए ट्रेनिंग संस्थान की व्यवस्था की जाएगी। डीसी कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल ने कहा कि पैराग्लाइडिंग की लैंडिंग साइट पर नो पार्किंग जोन भी निर्धारित किए जाएंगेए ताकि किसी भी तरह के अप्रिय घटनाएं नहीं हो सकें। डीसी डॉ. निपुण जिंदल ने कहा कि पैराग्लाइडिंग के लिए ऐप निर्मित होने से पर्यटकों की सुरक्षा के साथ-साथ व्यवस्थित पैराग्लाइडिंग में भी मदद मिलेगी।

 

 

हाल ही में हुई घटनाओं के बाद लिया निर्णय

डीसी कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल ने कहा कि हाल ही में कुछ ऐसी घटनाएं हुई हैं, जिसमें पायलट व विभिन्न पैराग्लाइडिंग संघ कुछ सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन नहीं कर रहे हैं। दिसंबर माह में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना भी घटित हुई, जिसमें 12 वर्षीय लड़के की मौत हो गई थी। जिस पर जिला प्रशासन ने स्टेक होल्डर्स के साथ बैठक कर के सेफ पैराग्लाइडिंग के लिए मोबाइल ऐप लांच करने का निर्णय लिया है। पैराग्लाइडिंग शुल्क भी निर्धारित किए जाएंगेए जिससे मनमाने दाम वसूलने की घटनाओं पर भी अंकुश लगेगा। मोबाइल ऐप के जरिए पर्यटकों को अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध रहेंगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है