×

पुजारी हत्याकांडः परिजनों की मांग के आगे झुकी #Rajasthan सरकार; 10 लाख मुआवजे का ऐलान

राज्यपाल कलराज मिश्र ने भी इस मुद्दे को लेकर चिंता जताई है

पुजारी हत्याकांडः परिजनों की मांग के आगे झुकी #Rajasthan सरकार; 10 लाख मुआवजे का ऐलान

- Advertisement -

जयपुर। राजस्थान के करौली (Karauli) में जलाकर मार दिए गए पुजारी के परिजनों की मांग के आगे आखिरकार राजस्थान सरकार (Rajasthan Govt) को झुकना ही पड़ा। बताया जा रहा है कि राजस्थान सरकार पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपए, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत डेढ़ लाख रुपए का मकान और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देगी। गौरतलब है कि घटना के बाद से परिजन लगातार पुजारी मांग ना पूरी होने तक शव के अंतिम संस्कार नहीं करने को लेकर अड़े थे। अब 11 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल से राज्य सरकार के बीच वार्ता सफल होने के बाद वे मान गए हैं और धरने से भी उठ गए हैं।


मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन भी किया जाएगा!

थानेदार और पटवारी को हटाये जाने और दोषी पाये जाने पर सस्पेंड किया जाने जैसी पांच सूत्रीय मांग के बाद सहमति बनीं है। बताया गया कि इस बातचीत के दौरान यह भी तय हुआ है कि इस मामले की जांच के लिए जयपुर से एक एसआईटी का गठन भी किया जाएगा। इससे पहले राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने करौली में पुजारी की हत्या मामले को लेकर सीएम अशोक गहलोत से बात की। राज्यपाल ने इस मुद्दे को लेकर चिंता जताई है। राज्यपाल सचिवालय की तरफ से जारी बयान के मुताबिक सीएम अशोक गहलोत ने आश्वासन दिया है कि मामलों की जांच की जा रही है और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

यह भी पढ़ें: राकेश रोशन को गोली मारने वाला #Sharp_shooter परोल तोड़ने के बाद किया गया अरेस्ट

इससे पहले विप्र फाउंडेशन ने पीड़ित परिवार को दी 2 लाख की सहायता देने का ऐलान किया है। विप्र फाउंडेशन मंडल अध्यक्ष वेद प्रकाश शर्मा ने आर्थिक सहायता भी सौंप दी है। इसके अलावा सांसद डॉ मनोज राजोरिया ने परिवार जनों को आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। उन्होंने परिवार जनों को नकद 1 लाख की आर्थिक सहायता दी है। वहीं, दूसरी तरफ जयपुर और करौली जिले में पुजारियों और ब्राह्मण समाज इस घटना से काफी नाराज बताया जा रहा था। ब्राह्मण समाज, पुजारी संघ, बजरंग दल, बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर एक्शन की मांग की थी। उसके अलावा पीड़ित परिवार को 50 लाख रुपए का मुआवजा और एक सरकारी नौकरी देने की भी मांग की गई थी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whatsapp Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है