Covid-19 Update

57,248
मामले (हिमाचल)
55,860
मरीज ठीक हुए
961
मौत
10,675,575
मामले (भारत)
99,954,497
मामले (दुनिया)

#HP_Weather: हिमाचल में बारिश-बर्फबारी का दौर जारी, जाने कल से कैसा रहेगा मौसम

#HP_Weather: हिमाचल में बारिश-बर्फबारी का दौर जारी, जाने कल से कैसा रहेगा मौसम

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश में चौथे दिन भी लगातार बारिश-बर्फबारी (Rain and snowfall) का दौर जारी रहा। राजधानी शिमला के कुफरी, नारकंडा और कुल्लू के मनाली समेत ऊपरी इलाकों ने बर्फ की चादर ओढ़ ली है। गुरुवार सुबह से राजधानी शिमला की ऊंची चोटी जाखू में भी सीजन का पहला हिमपात हुआ है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने शुक्रवार से पूरे प्रदेश में मौसम साफ रहने का पूर्वानुमान लगाया है। दो दिसंबर तक अब मौसम साफ रहने के आसार हैं। ताजा हिमपात से हिमाचल (Himachal) की करीब 126 सड़कें बंद हो गई हैं। परिवहन निगम के 150 रूट फेल हुए हैं। विभाग के अनुसार चंबा में 61, शिमला में 28, कुल्लू में 22 और किन्नौर में 15 सड़कें बंद हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी कई सड़कें बाधित हैं। सड़कों से बर्फ हटाने के लिए लोक निर्माण विभाग ने 10 हजार कर्मचारियों को फील्ड में तैनात किया है।

यह भी पढ़ें: #HP_Weather: लाहुल में दूसरे दिन भी #Snowfall का दौर जारी, #Rohtang में डेढ़ फीट ताजा हिमपात

 

वहीं, कुल्लू, मंडी, किन्नौर और कांगड़ा जिला के कई क्षेत्रों में बिजली-पानी की आपूर्ति गुल हो गई है। मंडी में 154 बिजली ट्रांसफार्मर ठप हैं जबकि दो दर्जन पेयजल योजनाएं जम गई हैं। कुल्लू में भी 150 बिजली ट्रांसफार्मर और 41 पेयजल स्कीमों को नुकसान हुआ है। किन्नौर जिले के कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत लाइनों में ट्रिपिंग होने से विद्युत आपूर्ति (Power supply) बाधित है। जिला कांगड़ा के दुर्गम क्षेत्र मुल्थान में भी रात भर कई गांवों में बिजली गुल रही। गुरुवार को राजधानी शिमला (Shimla) सहित मैदानी क्षेत्रों में बारिश जारी रही। ताजा हिमपात और बारिश से प्रदेश के अधिकतम तापमान में आठ डिग्री की कमी दर्ज की गई है। कई क्षेत्रों का तापमान माइनस में है। ताजा बर्फबारी से पांगी, लाहुल, रामपुर-रोहड़ू, किन्नौर के ऊपरी इलाकों से संपर्क कट गया है।

बर्फबारी से एचआरटीसी की 40 बसें विभिन्न स्थानों पर फंसी

कुफरी, नारकंडा, खड़ापत्थर और देहा में हुई बर्फबारी से ऊपरी शिमला में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। राष्ट्रीय राजमार्ग-5 नारकंडा के पास बंद हो गया है जबकि शिमला चौपाल नेरवा सड़क देहा खिड़की के पास बंद पड़ी है। शिमला से रामपुर और रिकांगपिओ के लिए बस सेवा वाया बसंतपुर भेजी गईं। बर्फबारी के चलते ऊपरी शिमला में एचआरटीसी (HRTC) की 40 बसें विभिन्न स्थानों पर फंस गई हैं और 160 से अधिक रूट प्रभावित हुए हैं। वहीं शहर की जाखू की पहाड़ी पर भी हल्का हिमपात हुआ।

कुफरी से ऊपरी शिमला के लिए बहाल हुआ ट्रैफिक

 

हिमपात के कारण राजधानी शिमला को ऊपरी शिमला से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग-5 पर गुरुवार सुबह कुफरी के पास वाहनों की आवाजाही प्रभावित हो गई। दोपहर के समय कुफरी से ऊपरी शिमला के लिए ट्रैफिक बहाल हो गया। नारकंडा के पास एनच बंद होने से कोटगढ़ कुमारसेन और आसपास के इलाकों के लिए बस सेवा बाधित रही। शिमला से रोहड़ू के लिए खड़ापत्थर के पास बर्फबारी के चलते वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई है। शिमला से चौपाल और नेरवा सड़क देहा खिड़की के पास बंद है। इसके चलते गुरुवार को शिमला से चौपाल नेरवा रूट पर बसें रवाना नहीं हो सकी।

सराज घाटी बर्फ से लकदक

 

हिमाचल प्रदेश के शिमला और मनाली (Manali) पर्यटनों स्थलों में ताजा हिमपात हुआ है। शिमला की जाखू चोटी के अलावा कुफरी, नारकंडा, खड़ा पत्थर और देहा में बर्फबारी के कारण वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई है। राजधानी शिमला को रामपुर रिकांगपिओ से जोड़ने वाला नेशनल हाईवे-5 बर्फबारी के बाद नारकंडा के पास बंद हो गया है। मंडी जिले की सराज घाटी बर्फ से लकदक हो गई है। जिला कुल्लू और लाहुल-स्पीति में पिछले चार दिनों से बर्फबारी व बारिश लगातार जारी है।

पहाड़ों के साथ अब निचले ग्रामीण इलाके भी बर्फ से लकदक हो गए हैं। पर्यटन नगरी मनाली में 10 सेंटीमीटर, सोलंगनाला 45 सेंटीमीटर, साउथ पोर्टल 120 सेंटीमीटर, अटल टनल नॉर्थ पोर्टल 70 सेंटीमीटर, कोकसर में 60 सेंटीमीटर, रोहतांग दर्रा में 150 सेंटीमीटर, जलोड़ी दर्रा में 45 सेंटीमीटर, बिजली महादेव में 10 सेंटीमीटर तक ताजा हिमपात हुआ है। ऊंचाई वाले रिहायशी इलाकों में भारी बर्फबारी के बाद जनजीवन ठहर गया है। बारिश व बर्फबारी के बाद दो नेशनल हाइवे समेत करीब चार दर्जन सड़क मार्गों पर वाहनों के पहिये थम गए हैं।

मनाली में आइसोलेशन सेंटर बर्फबारी से हुआ क्षतिग्रस्त

 

कुल्लू जिला के मनाली उपमंडल में प्रशासन में कोरोना महामारी के चलते वशिष्ठ चौक पर आपात स्थिति के लिए लाखों रुपये खर्च करके ट्रायल के तौर पर आइसोलेशन सेंटर बनाया था। बीते 2 दिनों से मनाली के आसपास के क्षेत्रों में भारी बर्फबारी के चलते आइसोलशन सेंटर ध्वस्त हो गया है। जिसमें सरकार के लख रुपए बर्बाद हो गए हैं। वहीं इस टेंपरेरी आइसोलेशन सेंटर को लेकर स्थानीय लोगों ने विरोध भी किया था। मनाली एसडीएम रमन घरसंगी ने बताया कि इस कोविड सेंटर का आपात स्थिति के लिए ट्रायल के तौर पर निर्माण किया गया है। उन्होंने बताया कि बर्फबारी से सेंटर क्षतिग्रस्त हुआ है लेकिन जल्द ही इसे ठीक कर लिया जाएगा।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है