Covid-19 Update

1,42,510
मामले (हिमाचल)
1,04,355
मरीज ठीक हुए
2039
मौत
23,340,938
मामले (भारत)
160,334,125
मामले (दुनिया)
×

सड़क पर चलने से बनेगी बिजली, IIT Mandi के शोधकर्ताओं ने विकसित की तकनीक

आईआईटी मंडी के डॉक्टर राहुल वैश और उनकी टीम को मिली सफलता,

सड़क पर चलने से बनेगी बिजली, IIT Mandi के शोधकर्ताओं ने विकसित की तकनीक

- Advertisement -

मंडी। देश और दुनिया में बढ़ते प्रदूषण (Pollution) के खतरे को कम करने के लिए सभी क्लीन एनर्जी (Clean Energy) की ओर ध्यान दे रहे हैं। यानी ऐसी ऊर्जा (Energy) जिसके उत्पादन से पर्यावरण को कोई नुकसान ना पहुंचे। फिलहाल कोयला, पट्रोल, डीजल, कैरोसीन से ऊर्जा उत्पादन में वातावरण को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचता है। इसी बीच अब आईआईटी मंडी (IIT Mandi) में एक ऐसी तकनीक विकसित की जा रही है, जिसमें सड़क (Road) पर चलने से बिजली (Electricity) पैदा होगी। इस शोध में जुटे प्रमुख शोधकर्ताओं में से एक हैं आईआईटी मंडी के डॉक्टर राहुल वैश (Rahul Vaish)।


यह भी पढ़ें: JEE Advanced Exam 3 जुलाई को, IIT में प्रवेश के लिए 75% अंकों की अनिवार्यता खत्म

सड़क पर चलने से जिस तकनीक से बिजली बनेगी उस तकनीक का नाम है ग्रेडिड पोलिंग और आईआईटी मंडी के शोधकर्ता जिस पीजोइलेक्ट्रिक मटेरियल (Piezoelectric Material) का इस्तेमाल कर रहे हैं उससे उर्जा उत्पन्न होती है। इसमें सड़क पर पड़ने वाले दबाव से बिजली पैदा की जाती है। इसमें मैकेनिकल एनर्जी को इलेक्ट्रिकल एनर्जी बदला जाता है। मसलन सड़क पर दबाव पड़ने से मैकेनिकल ऊर्जा पैदा होती है और इसे इलेक्ट्रिक एनर्जी में बदला जाता है। क्लीन एनर्जी बनाने के जिस प्रोजेक्ट पर टीम काम कर रही है, उन प्रमुख शोधकर्ताओं में से एक डॉक्टर राहुल वैश हैं।


100 गुना बढ़ा दिया बिजली उत्पादन

प्रमुख शोधकर्ताओं में से एक डॉक्टर राहुल वैश ने एक बयान में कहा कि हमने पीजोइलेक्ट्रिक सामग्रियों के बिजली उत्पादन को 100 गुना से अधिक बढ़ाने के लिए ग्रेडेड पोलिंग नामक एक तकनीक विकसित की है। यानी जिस काम करने से पहले एक गुना बिजली पैदा होती थी अब वही काम करने से 100 गुना बिजली पैदा होगी। इस एक सफलता के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि यह भी बता दें कि इसका प्रभाव सीमित है। बहरहाल, जलवायु परिवर्तन की वजह पृथ्वी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। ऐसे में इस शोध में शोधकर्ताओं को ज्यादा कामयाबी मिलती है तो इससे पर्यावरण का बहुत बड़ा फायदा होगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है