Covid-19 Update

2,01,054
मामले (हिमाचल)
1,95,598
मरीज ठीक हुए
3,446
मौत
30,082,778
मामले (भारत)
180,423,381
मामले (दुनिया)
×

दुनिया का इकलौता देश, जहां पति-पत्नी को Divorce लेने की इजाजत नहीं

फिलीपींस में तलाक के लिए बिल तो बना लेकिन कानून है ही नहीं

दुनिया का इकलौता देश, जहां पति-पत्नी को Divorce लेने की इजाजत नहीं

- Advertisement -

दुनिया भर में पिछले कुछ समय में तलाक लेने वाली की संख्या में खासा इजाफा हुआ है, यही कारण है कि लगभग सभी देशों में तलाक लेने के लिए कानून बन गया है और हर देश में इसके लिए अलग- अलग कानून व परंपराएं हैं। भारत की बात करें तो हमारे देश में भी तलाक के मामले बढ़े हैं। छोटी- छोटी बातों को लेकर पति-पत्नी तलाक लेने के लिए कोर्ट पहुंच जाते हैं। क्या आप जानते हैं कि दुनिया में एक देश ऐसा भी है, जहां तलाक का कोई प्रावधान ही मौजूद नहीं है। इस देश में तो तलाक के लिए बिल तो बना लेकिन कानून (Divorce Law)है ही नहीं।

यह भी पढ़ें:  फिलीपींस की एक गुफा में मिली इंसान की एक और प्रजाति, यहां जानें सबकुछ


फिलीपींस (Philippines) दुनिया का इकलौता देश है, जहां तलाक लेने की कोई व्यवस्था नहीं है। दरअसल फिलीपींस कैथोलिक (Catholic) देशों के एक समूह का हिस्सा है। कैथोलिक चर्च की वजह से ही इस देश में तलाक का कोई प्रावधान नहीं है। वर्ष 2015 में जब पोप फ्रांसिस फिलीपींस गए थे, तब वहां के धर्मगुरुओं से अपील की थी कि जो लोग तलाक लेना चाहते हैं, उनके प्रति सहानुभूति का नजरिया रखना चाहिए। लेकिन फिलीपींस में ‘तलाकशुदा कैथोलिक’ होना अपमानजनक है। फिलीपींस में तलाक नहीं लेने का प्रतिबंध सिर्फ ईसाइयों पर है। यहां की 6 से 7 फीसदी मुस्लिम आबादी अपने पर्सनल लॉ (Muslim Personal Law) के मुताबिक तलाक ले सकती है। मुस्लिम समुदाय को अपने धार्मिक नियमों के अनुसार ऐसा करने की छूट दी गई है।

इतना ही नहीं फिलीपींस के ईसाई धर्मगुरुओं ने पोप फ्रांसिस की इस अपील को भी अनसुना कर दिया था। वहां के लोगों को इस बात पर गर्व होता है कि दुनिया में फिलीपींस एकमात्र ऐसा देश है, जहां पर तलाक नहीं लिया जा सकता है। हालांकि फिलीपींस में तलाक को वैध बनाने वाला बिल पहले से है लेकिन राष्ट्रपति बेनिनो एक्विनो के समर्थन के बिना इसे कानून नहीं बनाया जा सकता है।

दरअसल फिलीपींस पर करीब चार सदी तक स्पेन का शासन रहा। इस दौरान वहां अधिकांश लोगों ने ईसाई धर्म अपना लिया था। 1898 में स्पेन-अमेरिका के बीच युद्ध हुआ और फिलीपींस पर अमेरिका का शासन हो गया। इसके बाद वहां पर तलाक के लिए एक कानून बनाया गया। हालांकि इसमें एक शर्त थी कि अगर पति-पत्नी में से कोई एडल्टरी करते पाया जाएगा, सिर्फ तभी तलाक लिया जा सकता है। द्वितीय विश्वयुद्ध के समय जब फिलीपींस पर जापान का कब्जा हुआ तो उस समय भी तलाक के लिए एक नया कानून बनाया गया। लेकिन जब साल 1944 में अमेरिका ने फिलीपींस पर दोबारा शासन किया तो फिर से पुराना तलाक कानून ही लागू हो गया। 1950 में जब फिलीपींस अमेरिका के कब्जे से आजाद हुआ तो चर्च के प्रभाव में तलाक का कानून वापस ले लिया गया। तभी से तलाक पर जो प्रतिबंध लगा, वह अब तक जारी है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है