Covid-19 Update

2,22,569
मामले (हिमाचल)
2,17,256
मरीज ठीक हुए
3,719
मौत
34,161,956
मामले (भारत)
243,966,014
मामले (दुनिया)

Rathore बोले-दबाव की राजनीति बर्दाश्त नहीं, संगठन में जो सही-वही होगा

नगर निगम चुनाव के बाद संगठन की मजबूती पर होगा पूरा फोकस

Rathore बोले-दबाव की राजनीति बर्दाश्त नहीं, संगठन में जो सही-वही होगा

- Advertisement -

कांगड़ा। हिमाचल कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर (State President of Himachal Congress Kuldeep Rathore) ने दो टूक कहा है कि दबाव की राजनीति उन्हें बर्दाश्त नहीं है। संगठन में जो सही होगा वही होगा। संगठन में भाई भतीजावाद को कोई जगह नहीं है। कुलदीप राठौर ने यह बात हिमाचल अभी अभी (Himachal Abhi Abhi) के मुख्य कार्यालय कांगड़ा में कही। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Election) मिलकर लड़ेंगे। काफिल चल पड़ेगा, जो काफिले में शामिल होगा वे अपनी मंजील तक पहुंचेगा, जो छूट जाएगा वो छूट जाएगा। हिमाचल में सोनिया गांधी, राहुल गांधी व कांग्रेस का एजेंडा चलेगा। वह संगठन में उपर से नीचे की ओर नहीं बल्कि नीचे से उपर की ओर आए हैं। वह एनएसयूआई (NSUI) व युवा कांग्रेस में भी सेवाएं दे चुके हैं और पेशे से वकील हैं। वह अपनी बुद्धि से काम लेंगे। दबाव की राजनीति बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करेंगे। संगठन की बेहतरी के लिए वरिष्ठ नेता से लेकर छोटा कार्यकर्ता भी सलाह देगा उसे भी मानने के लिए तैयार हूं।

यह भी पढ़ें: Rathore बोले : पार्टी सिंबल पर चुनाव होने से बीजेपी धन बल का नहीं कर पाएगी प्रयोग

उन्होंने कहा कि जब वह हिमाचल कांग्रेस (Himachal Congress) के अध्यक्ष बने तो बहुत सी चीजें ठीक नहीं थीं। प्रदेश में गुटबंदी थी। उन्होंने तमाम नेताओं को इकट्ठा करने की कोशिश की। उन्हें खुशी है कि गुटबंदी पर विराम लगा है। ऐसे लोग जो घर बैठ गए थे उन्हें भी बाहर निकाला है और संगठन के साथ चलाया है। उन्होंने नगर निगम चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने के फैसले पर सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि नगर निगम चुनाव पार्टी चिन्ह पर होने से पता चल जाएगा कि कांग्रेस कितनी कमजोर है या कितनी स्ट्रांग है। बीजेपी धनबल का प्रयोग कर चुनाव लड़ेगी और कांग्रेस जनबल से चुनाव लड़ेगी। चारों नगर निगम में बीजेपी को हराएंगे। कुलदीप राठौर ने कार्यकारिणी छोटी होने की वकालत की है, लेकिन कहा कि उन्हें विधायकों (MLA) और पुराने कार्यकर्ताओं की भी सुननी पड़ती है। उन्होंने कहा कि जो पार्टी का पदाधिकारी काम नहीं कर रहा है, या तो वह खुद हट जाए या फिर पार्टी अपने स्तर पर फैसला लेगी। पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह को लेकर उन्होंने कहा कि जब भी वह उनके मिलते हैं जो एक नई उर्जा का संचार होता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है