Covid-19 Update

2, 85, 014
मामले (हिमाचल)
2, 80, 820
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,142,192
मामले (भारत)
529,039,594
मामले (दुनिया)

CBSE EXAM: दोनों चरणों की परीक्षा में गैरहाजिर छात्रों को नहीं मिलेगा तीसरा अवसर

सीबीएसई 50 फीसदी सिलेबस के लिए यह परीक्षाएं आयोजित कर रहा है

CBSE EXAM: दोनों चरणों की परीक्षा में गैरहाजिर छात्रों को नहीं मिलेगा तीसरा अवसर

- Advertisement -

नई दिल्ली। सीबीएसई द्वारा आयोजित की जा रही कक्षा 10 और 12वीं की बोर्ड की परीक्षाएं जून के मध्य तक चलेगी। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो जून के महीने में कोरोना भी चरम पर रहेगा। इन परीक्षाओं के लिए देशभर के करीब 35 लाख छात्र-छात्राओं ने पंजीकरण कराया है। ऐसे में परीक्षा कैसे कराई जाएगी, इस पर सीबीएसई का कहना है कि फिलहाल परीक्षाएं सुचारू रूप से जारी हैं और अभी इस प्रकार की कोई समस्या नहीं है। वहीं एक महत्वपूर्ण प्रश्न यह भी है कि ऐसे छात्रों का क्या होगा जो दूसरे चरण की इन परीक्षा में शामिल नहीं हो पाएंगे। ऐसे छात्रों का परिणाम कैसे तैयार होगा जो पहले और दूसरे चरण में नहीं आ सके। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के मुताबिक, जो छात्र ना तो पहले चरण की परीक्षाओं में शामिल हुए ना ही दूसरे चरण की परीक्षा दी। उन छात्रों को अब तीसरा अवसर नहीं दिया जा सकता है। ऐसे छात्रों को दोबारा से वही कक्षा रिपीट करनी होगी। यह छात्र केवल अगले वर्ष आयोजित होने वाली सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा में बैठ सकेंगे। इन छात्रों को इस साल कंपार्टमेंट परीक्षा में बैठने की अनुमति भी नहीं दी जाएगी।

यह भी पढ़ें:CBSE सिलेबस में हुआ बड़ा बदलाव, हटा दिया मुगल साम्राज्य का अध्याय

गौरतलब है कि सीबीएसई द्वारा इस वर्ष बोर्ड की परीक्षाएं दो अलग-अलग चरणों में ली जा रही हैं। यह परीक्षा का दूसरा चरण है। पहला चरण पिछले वर्ष नवंबर-दिसंबर माह के दौरान आयोजित किया गया था। यह बोर्ड परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित की जा रही है। सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज के मुताबिक दूसरे चरण में इसबार 10वीं और 12वीं की परीक्षा एक शिफ्ट में आयोजित की जा रही है। सीबीएसई 50 फीसदी सिलेबस के लिए यह परीक्षाएं आयोजित कर रहा है। शेष 50 प्रतिशत सिलेबस के लिए परीक्षाएं पिछले वर्ष पहले चरण में आयोजित की जा चुकी है।

यह भी पढ़ें:हिमाचल में नौकरी: 4 और 5 मई को होंगे कैंपस साक्षात्कार, मिलेगा 2.2 लाख वेतन; जाने डिटेल

सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षाओं के लिए कंपार्टमेंट परीक्षा पात्रता और रिजल्ट संबंधी गाइडलाइन बनाई है। हालांकि यदि कोई छात्र किसी एक चरण की परीक्षाएं पूरी दे चुका है और कोरोना के कारण दूसरे चरण की परीक्षा नहीं दे पाया तो ऐसे छात्रों के लिए मूल्यांकन के विशेष तरीके उपलब्ध कराए जा सकते हैं। सीबीएसई के मुताबिक ऐसे छात्रों के लिए विकल्प उपलब्ध होंगे और उन्हें एसेंशियल रिपीट की कैटेगरी में नहीं रखा जाएगा। सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज बता चुके हैं कि कोरोना के कारण ही बोर्ड परीक्षाओं को दो हिस्सों में बांटा गया है। इसका उद्देश्य यही था कि कोरोना के कारण यदि किसी एक चरण की परीक्षाएं न ली जा सके तो दूसरे चरण की परीक्षाओं के आधार पर छात्रों का परीक्षा परिणाम जारी किया जा सके।

यह भी पढ़ें:हिमाचल में 6 मई को सजेगा रोजगार मेला, 50 कंपनियां देंगी दो हजार युवाओं को नौकरी

सीबीएसई ने परिणाम से असंतुष्ट छात्रों के लिए पुनर्मूल्यांकन की व्यवस्था की है। इसके लिए ऑनलाइन पोर्टल सक्रिय किया जाएगा। परीक्षा परिणाम जारी होने के उपरांत यह पोर्टल 2-3 दिनों तक सक्रिय रहेगा। छात्रों को ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए गैर-वापसी योग्य 100 रुपये प्रति प्रश्न का पुनर्मूल्यांकन शुल्क देना होगा। यदि छात्रों के अंकों में कोई भी बदलाव पाया गया तो वह सीबीएसई रिजल्ट में भी दिखाई देगा। पुनर्मूल्यांकन के बाद रिजल्ट को अंतिम माना जाएगा। सीबीएसई का कहना है कि पुनर्मूल्यांकन के खिलाफ कोई और अपील पर विचार नहीं किया जाएगा। इसके अलावा सीबीएसई ने छात्रों को एक अन्य सुविधा भी प्रदान की है। सीबीएसई का कहना है कि जिन छात्रों को मूल्यांकित उत्तर पुस्तिका की फोटोकॉपी प्राप्त करना है वे अपनी मूल्यांकित आंसर स्क्रिप्ट की फोटोकॉपी प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकेंगे। यह आवेदन प्रक्रिया भी ऑनलाइन मोड में पूरी की जाएगी। इसके लिए छात्रों को प्रोसेसिंग चार्ज के रूप में 700 रुपये प्रति विषय का भुगतान करना होगा।

यह भी पढ़ें:कौशल विकास निगम में 1800 युवाओं को मिलेगा निशुल्क प्रशिक्षण, साइन हुआ MOU

गौरतलब है कि मंगलवार 26 अप्रैल से देशभर में सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाएं शुरू हो गई। करीब 35 लाख छात्र सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाओं में शामिल हो रहे हैं। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर सीबीएसई व विभिन्न राज्य सरकारों ने इन बोर्ड परीक्षाओं को लेकर व्यापक इंतजाम किए हैं। इसी के मद्देनजर परीक्षा से पहले और परीक्षा के दौरान स्कूलों में बड़े स्तर पर सैनिटाइजेशन ड्राइव एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया।

यह भी पढ़ें:हिमाचल में खुल गए रोजगार के द्वार, 415 पदों पर भर्ती के लिए इस दिन होंगे कैंपस इंटरव्यू

सीबीएसई की 10वीं की परीक्षाएं 26 अप्रैल से 24 मई तक हैं। वहीं 12वीं कक्षा के लिए शुरू की गई सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं 15 जून तक जारी रहेंगी। कोरोनावायरस के मामलों को देखते हुए सीबीएसई ने छात्रों के लिए खास दिशा निर्देश भी जारी किए हैं। इन दिशा निर्देशों का पालन करते हुए छात्रों को एग्जाम सेंटर के अंदर कोविड प्रोटोकॉल का खास ख्याल रखना होगा।

–आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है