Covid-19 Update

2,18,523
मामले (हिमाचल)
2,13,124
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,694,940
मामले (भारत)
232,779,878
मामले (दुनिया)

ना पीपल ना बरगद- इस पेड़ की जड़ें होती है सबसे गहरी

शेफर्ड ट्री की जड़ें 70 मीटर यानी करीब 230 फीट से भी ज्यादा गहरी होती है

ना पीपल ना बरगद- इस पेड़ की जड़ें होती है सबसे गहरी

- Advertisement -

हमारे जीवन में पेड़- पौधो की अहमियत क्या है ये हम सभी जानते हैं। सांस लेने के लिए ऑक्‍सीजन, खाने को फल-फूल, अनाज, स्वस्थ रहने को जड़ी-बूटी, पहनने को कपड़े, रहने को घर-मकान, फर्नीचर वगैरह तमाम चीजों के लिए हमें पेड़- पौधों की जरूरत पड़ती है। पेड़ के मजबूती से खड़े रहने के लिए उनकी जड़ें मजबूत होना बहुत जरूरी है। यही जड़ें हैं जो उसे खड़ा रखती है और पेड़ को पोषण व पानी पहुंचाती है। भूमि कटाव को रोकने में जड़ें अहम भूमिका अदा करती है। इन जड़ों को देखकर कभी कभी मन में ख्याल आता है कि ये कितनी गहरी होगी। या फिर पेड़ जितना बड़ा होगी उनकी जड़े भी उतनी ही गहरी होती होगी। चलिए आज आप को जड़ों की मजबूती व उसकी गहराई के बारे में बताते हैं

यह भी पढ़ें: ऐसी रहस्यमयी घाटी जिसको आज तक नहीं खोज पाया कोई, यहां ठहर जाता है समय

सबसे पहले बात करते हैं उन दो पेड़ों के बारे में जो बड़े होते हैं और उनको देखकर लगता है कि इनकी जड़ें मजबूत होगी। यानी बरगद व पीपल। दरअसल बरगद यानी वट वृक्ष और पीपल के पेड़ दिखने में बेहद विशाल होते हैं। इनकी जड़ें जमीन के अंदर तो होती ही हैं पर शाखाओं से भी जड़ें निकल कर मिट्टी तक पहुंच जाती हैं। ये जड़ें बेहद विशाल और फैली हुई भले ही दिखती हैं, लेकिन गहराई उतनी नहीं होती जितनी होनी चाहिए।

वैसे तो कई और भी सारे पेड़ हैं, जो अपनी लंबाई और गहरी जड़ों को लेकर जाने जाते हैं। अब बात करते हैं देवदार के पेड़ों की। ये पेड़ जमीन से 130 से 160 फीट तक भी ऊंचे हो सकते हैं और छोटे पेड़ों की तुलना में बड़े पेड़ों की जड़ें काफी गहरी हो सकती है, लेकिन सबसे गहरी जड़ों वाले पेड़ों में ये भी शामिल नहीं।

यह भी पढ़ें: यहां नवजात के साथ निभाई जाती है अजीब रस्म, ऊपर से कूदता है डेविल

चलिए आप को बता देते हैं तो सबसे गहरी जड़ों वाले पेड़ मूल रूप से अफ्रीका के कालाहारी रेगिस्तान में पाए जाते हैं। इस पेड़ का नाम है शेफर्ड ट्री (Boscia Albitrunca) । अमेरिका के न्यू जर्सी स्थित Rutgers स्टेट यूनिवर्सिटी के ‘Deep Roots in Plants Driven by Soil Hydrology’ शीर्षक से प्रकाशित रिसर्च में इसे गहरी जड़ वाला पेड़ बताया गया है। ये रिसर्च कहती है कि Shepherd Tree की जड़ें 70 मीटर यानी करीब 230 फीट से भी ज्यादा गहरी होती हैं। भूजल के लिए कुएं के ड्रिलर्स द्वारा एक्सीडेंटल तौर पर इस पेड़ की गहराई का पता चला था।

अंजीर के पेड़ के बारे में हम सभी जानते हैं। इस पेड़ की जड़ें मिट्टी में केवल एक से डेढ़ मीटर की गहराई की आवश्यकता होती है। लेकिन जहां तक जड़ों के फैलाव की बात करें तो अंजीर के पेड़ की जड़ सभी को टक्कर दे सकती है। खासकर मूल रूप से दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले अंजीर के पेड़ मिट्टी में काफी गहराई तक जाती है। चट्टानों पर उगने के बावजूद इसकी 10 से 20 सेमी मोटी जड़ें धरती में गहराई तक प्रवेश कर जाती हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है