Covid-19 Update

1,99,252
मामले (हिमाचल)
1,92,229
मरीज ठीक हुए
3,395
मौत
29,633,105
मामले (भारत)
177,469,183
मामले (दुनिया)
×

ये है वो कुर्सी जिस पर जो भी बैठा फिर बैठने लायक नहीं बचा-अब तक कितने मरे पढ़े रहस्य

थॉमस बस्बी नाम के शख्स की पसंदीदा कुर्सियों में से एक थी

ये है वो कुर्सी जिस पर जो भी बैठा फिर बैठने लायक नहीं बचा-अब तक कितने मरे पढ़े रहस्य

- Advertisement -

कुर्सी एक ऐसी चीज है जो पूरी दुनिया में मशहूर है। मशहूर इसलिए की ही कोई कुर्सी के लिए ही तो भाग रहा है। लेकिन दुनिया में एक ऐसी भी कुर्सी है जिस पर कोई बैठ गया तो दोबारा बैठने लायक ही नहीं बचता। यानी इस कुर्सी के साथ एक बात जुड़ी हुई है कि इस पर बैठने वाले की मौत (Death) हो जाती है।

यह भी पढ़ेंये है दुनिया का डाइवोर्स होटल- यहां पर ठहरते ही हो जाता है तलाक

ये वो कुर्सी है जो इंग्लैंड (England)में मौजूद है, इस मौत की कुर्सी (Chair of Death) कहा जाता है। ये कुर्सी थॉमस बस्बी नाम के शख्स की पसंदीदा कुर्सियों में से एक थी। थॉमस बस्बी (Thomas Busby)अपने अलावा किसी दूसरे को इस कुर्सी पर बैठा नहीं देख सकते थे। कुर्सी से उनका लगाव इतना था कि वर्ष 1702 में उनके ससुर इस कुर्सी पर बैठ गए तो उन्होंने ससुर को ही मौत के घाट उतार दिया। उसके बाद किसी ने इस कुर्सी पर बैठने की हिम्मत नहीं जुटाई।


यह भी पढ़ें:एक्सरसाइज करने पर इस लड़की के शरीर से पसीना नहीं बल्कि निकलता है कुछ और-हैरतअंगेज

ऐसी बात कही जाती है कि अंत के दिनों में थॉमस इस कुर्सी को लेकर ऐसा कह गए कि जो भी इस पर बैठेगा वह मर जाएगा। इसके बाद इस कुर्सी को दूसरे विश्वयुद्व (Second World War) के बाद एक पब में रख दिया गया। वहां इस कुर्सी को हॉट सीट का नाम दिया गया,लेकिन इस पर जो भी बैठता मर जाता। ऐसा करते-करते 63 लोग मारे गए,उसके बाद इस बात पर विचार हुआ कि थॉमस ने श्राप दिया था,तभी इस कुर्सी पर बैठने वाला कोई भी शख्स मर जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है