Covid-19 Update

2,17,140
मामले (हिमाचल)
2,11,871
मरीज ठीक हुए
3,637
मौत
33,501,851
मामले (भारत)
229,513,714
मामले (दुनिया)

किन्नौर लैंडस्लाइड: आज तीन शव हुए बरामद, 17 पहुंची मृतकों की संख्या, 13 अभी भी लापता

पत्थर गिरने से एक खोजी कुत्ता भी हुआ घायल

किन्नौर लैंडस्लाइड: आज तीन शव हुए बरामद, 17 पहुंची मृतकों की संख्या, 13 अभी भी लापता

- Advertisement -

रिकांगपिओ। हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिला के निगुलसरी में हुए लैंडस्लाइड (Landslide) के आज तीसरे दिन तीन शव (Dead Body) बरामद किए गए। इसके साथ ही मृतकों की संख्या अब 17 पहुंच गई है। हादसे का शिकार हुई एचआरटीसी बस के 13 यात्री अभी भी लापता बताए जा रहे हैं। घटनास्थल पर पत्थरों के गिरने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार सुबह शुरू हुए सर्च ऑपरेशन (search operation) में शामिल खोजी कुत्ता भी पत्थर गिरने से घायल हो गया। हाईवे को फिलहाल आवाजाही के लिए बंद कर दिया है। लापता लोगों को खोजने के लिए सर्च ऑपरेशन अब शनिवार सुबह फिर शुरू किया जाएगा। बता दें कि शुक्रवार सुबह 4:00 बजे शुरू हुए सर्च ऑपरेशन में शिमला से मंगवाए गए खोजी कुत्तों की मदद ली गई।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बड़ा खतराः लैंडस्लाइड से चंद्रभागा नदी का बहाव रुका, घर डूबे-खाली करवाए गांव

 

पत्थरों और मिट्टी के बीच दबे लोगों को खोजने के लिए जिला प्रशासन ने खुदाई मशीन को भी लगाया है। 200 मीटर खड़ी चढ़ाई पर सड़क बनाकर दोनों तरफ से लापता (Missing) लोगों को खोजा जा रहा है। सर्च अभियान में जुटीं टीमों के लिए सतलुज जल विद्युत निगम खाने-पीने की व्यवस्था कर रहा है। लापता लोगों के परिजनों के ठहरने की भी व्यवस्था की गई है। उधर, शाम करीब साढ़े चार बजे पहाड़ी से फिर पत्थर गिरने के बाद बचाव अभियान बंद कर दिया गया। अब शनिवार सुबह फिर शुरू किया जाएगा।

 

 

आज तीसरे दिन शुक्रवार सुबह 4 बजे से इस सर्च अभियान को और अधिक गति देने के लिए प्रशासन ने हैवी मशीनें एलएनटी और शवों को खोजने के लिए खोजी कुत्तों का प्रयोग करना शुरू कर दिया है। हर तरफ हृदयविदारक माहौल है। मलबे में दबे लोगों को जिंदा होने की उम्मीद बहुत कम है। मलबे में कोई भी शव मिलने के बाद वहां अपनों के इंतजार मंे बैठे लोगों की धुकधुकी बढ़ जाती है। शुक्रवार को जैसे ही दो शवों के मिलने की सूचना मिली तो अधिकतर लापता लोगों के परिजन अस्पताल के बाहर पहुंच गए। जैसे ही शव आ रहे हैं शिनाख्त के लिए उनकी धड़कनें बढ़ जाती हैं। आंखों से निरंतर आंसू बहना शुरू हो जाते हैं। हर कोई मलबे से सकुशल निकलने की दुआएं कर रहा है। हालांकिए हादसे के दिन बढ़ने के साथ धीरे.धीरे लोगों की उम्मीद टूट रही है।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है