×

हाथरस केस पर UP ADG का नया बयान: गैंगरेप की पुष्टि नहीं, फॉरेंसिक जांच में नहीं मिला स्पर्म

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मृत्यु का कारण गले में चोट और उसका ट्रॉमा है

हाथरस केस पर UP ADG का नया बयान: गैंगरेप की पुष्टि नहीं, फॉरेंसिक जांच में नहीं मिला स्पर्म

- Advertisement -

लखनऊ। उत्तर प्रदेश स्थित हाथरस में गैंगरेप के बाद हुई लड़की की मौत के मामले में राजनीतिक भूचाल आने के बाद इस मामले पर उत्तर प्रदेश के एडीजी (UP ADG) प्रशांत कुमार का एक नया बयान सामने आया है। यूपी एडीजी ने हाथरस मामले (Hathras Case) को लेकर कहा है कि एफएसएल रिपोर्ट में रेप (Rape) की पुष्टि नहीं हुई है। पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट में भी रेप की पुष्टि नहीं हुई थी। उन्होंने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मृत्यु का कारण गले में चोट और उसका ट्रॉमा है। एडीजी प्रशांत कुमार की मानें तो फॉरेंसिक जांच के लिए ‘जो सैंपल भेजे गए थे उनमें किसी प्रकार के स्पर्म (शुक्राणु) नहीं मिले’ हैं। उन्होंने मामले को लेकर बढ़ रहे तनाव पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि कुछ लोगों ने जातीय तनाव पैदा करने के लिए ऐसी चीज़ें करवाईं।


मेडिकल रिपोर्ट आने से पहले ही सरकार के खिलाफ गलत बयानी की गई

प्रशांत कुमार ने मामले के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वारदात के बाद युवती ने पुलिस को दिए बयान में भी अपने साथ बलात्कार होने की बात नहीं कही थी। उसने सिर्फ मारपीट किए जाने का आरोप लगाया था। बक़ौल एडीजी प्रशांत कुमार, ‘सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने और जातीय हिंसा भड़काने के लिए कुछ लोग तथ्यों को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं।’ उन्होंने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि पुलिस ने हाथरस मामले में तुरंत कार्रवाई की और अब हम उन लोगों की पहचान करेंगे जिन्होंने माहौल खराब करने और प्रदेश में जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश की। उन्होंने बताया कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच के लिए विशेष अनुसंधान दल गठित किया।

यह भी पढ़ें: पर्सनल बेल बॉन्ड पर #UP_Police की हिरासत से छूटे राहुल-प्रियंका; दिल्ली रवाना

बक़ौल यूपी एडीजी, ‘मेडिकल रिपोर्ट आने से पहले ही सरकार के खिलाफ गलत बयानी की गई और पुलिस की छवि को खराब किया गया। हम पड़ताल करेंगे कि यह सब किसने किया। यह एक गंभीर मामला है और सरकार तथा पुलिस महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को लेकर बेहद संजीदा है।’ युवकी की मौत के संबंध में जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के ट्रॉमा सेंटर के सीएमओ डॉ एहतेशाम ने बताया कि पीड़िता को गर्दन के पास गहरी चोट थी और रीढ़ की हड्डी टूट चुकी थी, जिसकी वजह से दोनों पैरों ने काम करना बंद कर दिया था। गर्दन के पास की हड्डी टूटने की वजह से वह सांस नहीं के बराबर ले पा रही थी और उसकी गर्दन की नस भी टूट चुकी थी। बताया जा रहा है कि गले और रीढ़ की हड्डी टूटने की वजह से ही युवती की मौत हुई।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है