Covid-19 Update

2,63,113
मामले (हिमाचल)
2,45, 890
मरीज ठीक हुए
3936*
मौत
40,085,116
मामले (भारत)
359,251,319
मामले (दुनिया)

एक ऐसा फोन नंबर जिसने भी खरीदा, समझ लो जिंदगी से हाथ धो बैठा

ये सिलसिला आज से नहीं बल्कि बीते दस साल से चला आ रहा था

एक ऐसा फोन नंबर जिसने भी खरीदा, समझ लो जिंदगी से हाथ धो बैठा

- Advertisement -

दुनिया भर में बहुत सारे किस्से-कहानियां सुनने को मिलती है,लेकिन ये सौ फीसदी सच है,जो हम आपको बताने जा रहे हैं। आज हम बात कर रहे हैं भूतिया फोन नंबर (Phone Number) की,जिसने भी इस नंबर को खरीदा होगा,वह उसके बारे में कुछ बताने लायक ही नहीं रहा होगा। इसलिए ये सच हमें ही आपको बताना पड़ रहा है। जिसे जानने के बाद शायद दोबारा अपना मोबाइल नंबर ना बदलें और अगर बदलेंगे भी तो हजार बार सोचेंगे कि अपना मोबाइल नंबर बदलें या नहीं। कहते हैं कि इस नंबर को जिसने भी खरीदा,उसकी मौत हो गई। ये सिलसिला पिछले 10 साल से चल रहा है। सोशल मीडिया पर इस भूतिया मोबाइल नंबर (Mobile Number) को लेकर जोर.शोर से चर्चा चल रही है। यह अबतक की कोई पहली घटना नहीं है बल्कि अब तक तीन बार ऐसी घटनाओं के तो प्रमाण भी हैं। इस नंबर को खरीदने वाले तीनों लोगों की मौत हो चुकी है। मामला बुल्गारिया ( (Bulgaria)का है, सबसे पहले इस नंबर को मोबीटेल कंपनी के सीईओ ने खरीदा था, कंपनी के सीईओ (CEO) दमीर गेसनोव ने इस मनहूस मोबाइल नंबर को सबसे पहले खुद के लिए जारी करवाया था। ये मनहूस नंबर 0888888888 है। इसके बाद साल व्लादमीर को कैंसर हो गया, जिसके चलते 2001 में उनकी मौत हो गई। ऐसा माना जाता है कि कैंसर से मौत होने की अफवाह उनके दुश्मनों ने फैलाई थी, जबकि मौत की असली वजह कुछ और ही थी। कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ये मोबाइल नंबर की उनकी जान का दुश्मन बना बैठा।

ये भी पढ़ेः मोइबाल-लैपटॉप करते हैं हमारे दिमाग को धीमा, आज ही छोड़ें यह लत

व्लादमीर के बाद इस मोबाइल नंबर को डिमेत्रोव नाम के एक कुख्यात ड्रग डीलर ने इस्तेमाल किया। यह नंबर लेने के बाद डिमेत्रोव को वर्ष 2003 में एक असेसन ने मार दिया। डिमेत्रोव को रशियन माफिया ने मार गिराया था। डिमेत्राव का ड्रग कारोबार 500 मिलियन का बताया गया था। मौत के समय यह नंबर डिमेत्रोव के पास ही था। डिमेत्रोव की मौत के बाद यह नंबर बुल्गारिया के एक व्यापारी डिसलिव ने खरीदा। नंबर लेने के बाद डिसलिव को भी वर्ष 2005 में बुल्गारिया की राजधानी सोफिया में मार डाला गया गया। डिसलिव एक कोकीन ट्रेफिकिंग ऑपरेशन भी चलाता थे। कहते हैं कि तीन मौत हो जाने के बाद इस नंबर को वर्ष 2005 में सस्पेंड (Suspend) कर दिया गया था।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है