Covid-19 Update

2,2,003
मामले (हिमाचल)
2,22,361
मरीज ठीक हुए
3,830
मौत
34,572,523
मामले (भारत)
261,511,846
मामले (दुनिया)

हिमाचल: गर्भवती महिलाओं के लिए जननी सुरक्षा योजना बनी वरदान, जाने डिटेल

हिमाचल में अब तक 16354 गर्भवती महिलाओं ने उठाया लाभ

हिमाचल: गर्भवती महिलाओं के लिए जननी सुरक्षा योजना बनी वरदान, जाने डिटेल

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल में जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) गर्भवती महिलाओं के लिए वरदान बन गई है। पिछले एक से डेढ साल में करीब 16354 गर्भवती महिलाओं (Pregnant Women) ने इस योजना का लाभ उठाया है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग (Health Department) के एक प्रवक्ता ने दी। उन्होंने बताया कि जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) भारत सरकार की सुरक्षित मातृत्व को प्रोत्साहित करने की योजना हैए जिसका उद्देश्य गर्भवती महिलाओं के साथ-साथ आशा कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहन प्रदान कर गरीब गर्भवती महिलाओं (बीपीएल/एससी/एसटी) को संस्थागत प्रसव के लिए प्रेरित करना है। उन्होंने कहा कि इस पहल के अन्तर्गत गर्भवती महिलाओं को संस्थागत प्रसव के लिए प्रेरित करने के लिए आशा कार्यकर्ताओं को ग्रामीण क्षेत्र में 600 रुपये और शहरी क्षेत्रों में 400 रुपये प्रोत्सहान राशि के रूप में प्रदान किए जाते हैं। इसी तरह यदि एक योग्य गर्भवती मां (बीपीएल/एससी/एसटी) किसी सरकारी संस्थान में प्रसव करवाती है तो उसे ग्रामीण क्षेत्रों में 700 रुपये और शहरी क्षेत्रों के लिए 600 रुपये का प्रोत्साहन दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: यूएस डीएफसी के सीओओ वैश्विक स्वास्थ्य निवेश को बढ़ावा देने के लिए आएंगे भारत

प्रवक्ता ने कहा कि इस योजना के तहत लाभार्थियों को सभी प्रोत्साहनों का भुगतान प्रत्यक्ष बैंक हस्तांतरण तंत्र के माध्यम से किया जाता है, जिसके लिए आवश्यक जानकारी (आधार कार्ड, बैंक खाता विवरण) प्रथम एएनसी पंजीकरण के समय प्राप्त की जाती है। जननी सुरक्षा योजना के सभी लाभार्थियों का विवरण जिसमें लाभार्थी का बैंक खाता, आधार कार्ड नंबर से जुड़ा हुआ होना चाहिए से संबंधित जानकारी को स्वास्थ्य कार्यकर्ता जैसे स्वास्थ्य कार्यकर्ता, स्वास्थ्य पर्यवेक्षक आदि द्वारा आरसीएच पोर्टल पर अपलोड किया जाता है।

 

उन्होंने कहा कि जिस संस्थान में प्रसव होता है, वह आरसीएच पोर्टल पर परिणाम अपलोड करता है और संबंधित स्वास्थ्य अधिकारी जननी सुरक्षा योजना की प्रोत्साहन राशि लाभार्थी के बैंक में हस्तांतरित करने की सुविधा प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने दिसंबर, 2019 में जननी सुरक्षा योजना को जननी सुरक्षा प्लस में स्तरोन्नत किया है। उन्होंने बताया कि वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान 16354 गर्भवती महिलाओं ने जेएसवाई प्लस योजना का लाभ उठाया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है