Covid-19 Update

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

दत्तात्रेय जयंती पर बन रहे ये शुभ योग, सफल होंगे सारे काम

24 गुरुओं से शिक्षा प्राप्त की थी दत्तात्रेय ने

दत्तात्रेय जयंती पर बन रहे ये शुभ योग, सफल होंगे सारे काम

- Advertisement -

हर साल मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा तिथि को दत्तात्रेय जयंती मनाई जाती है। दत्तात्रेय को त्रिदेव यानी ब्रह्मा, विष्णु और महेश का रूप माना गया है। इस बार दत्तात्रेय जयंती 7 दिसंबर बुधवार को पड़ रही है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भगवान दत्तात्रेय की जयंती पर सिद्धी योग बन रहा है, जो बहुत ही शुभ माना जा रहा है। 7 दिसंबर को प्रात:काल 2 बजकर 50 मिनट से शुरू होकर 8 दिसंबर को सुबह 2 बजकर 52 मिनट कर रहेगा। यह योग बहुत ही शुभ माना जा रहा है। इस योग में पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। साथ ही इस योग में शुरू किया गया कार्य में सफलता प्राप्त होने की मान्यता है। इस योग में आप नया कारोबार शुरू कर सकते हैं,नया वाहन और संपत्ति आदि खरीद सकते हैं। वहीं इस 7 दिसंबर को सर्वार्थ सिद्धि और साध्य योग भी बना रहा है। दत्तात्रेय ने 24 गुरुओं से शिक्षा प्राप्त की थी। दत्तात्रेय के नाम पर ही दत्त संप्रदाय का उदय हुआ। माना जाता है कि भगवान दत्तात्रेय की पूजा करने से घर में सुख, समृद्धि, वैभव आदि प्राप्त होता है। यदि संकट की घड़ी में इनके भक्त सच्चे दिल से इन्हें याद करें तो ये उनकी मदद के लिए जरूर पहुंचते हैं।


यह भी पढ़ें:इस प्रकार करोगे मां अन्नपूर्णा का पूजन तो भरे रहेंगे भंडार

कैसे करें पूजा

दत्तात्रेय जयंती के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र पहनें। इसके बाद पूजा के स्थान पर साफ सफाई करें और गंगाजल का छिड़काव करें। इसके बाद एक चौकी रखकर उस पर साफ कपड़ा बिछाएं और उस पर भगवान दत्तात्रेय की तस्वीर स्थापित करें। इसके बाद भगवान दत्तात्रेय को धूप, दीप, रोली, अक्षत, पुष्प आदि अर्पित करें. इसके बाद भगवान दत्तात्रेय की कथा पढ़ें और अंत में आरती करें और प्रसाद बांटें।

Dattatreya Jayanti

Dattatreya Jayanti

पुराणों के अनुसार इनके तीन मुख, छह हाथ वाला त्रिदेवमयस्वरूप है। चित्र में इनके पीछे एक गाय तथा इनके आगे चार कुत्ते दिखाई देते हैं। औदुंबर वृक्ष के समीप इनका निवास बताया गया है। विभिन्न मठ, आश्रम और मंदिरों में इनके इसी प्रकार के चित्र का दर्शन होता है।मान्यता के अनुसार दत्तात्रेय ने परशुरामजी को श्रीविद्या-मंत्र प्रदान की थी। यह भी मान्यता है कि शिवपुत्र कार्तिकेय को दत्तात्रेय ने विद्याएं दीक्षा दी थी। भक्त प्रह्लाद को अनासक्ति-योग का उपदेश देकर उन्हें श्रेष्ठ राजा बनाने का श्रेय दत्तात्रेय को ही जाता है। दूसरी ओर मुनि सांकृति को अवधूत मार्ग, कार्तवीर्यार्जुन को तन्त्र विद्या एवं नागार्जुन को रसायन विद्या इनकी कृपा से ही प्राप्त हुई। गुरु गोरखनाथ को आसन, प्राणायाम, मुद्रा और समाधि-चतुरंग योग का मार्ग भगवान दत्तात्रेय की भक्ति से ही प्राप्त हुआ।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है