Covid-19 Update

3,12, 188
मामले (हिमाचल)
3, 07, 820
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,583,360
मामले (भारत)
622,055,597
मामले (दुनिया)

कभी अंग्रेजी के लेक्चरर थे दादाजी, आज ऑटो चलाने को मजबूर, ऐसे बदली जिंदगी…दूसरों के लिए बने प्रेरणा

74 साल के एक बुजुर्ग अंकल बेंगलुरु में ऑटो चलाकर गर्लफ्रेंड के साथ हंसी खुशी बिता रहे मस्त जिंदगी

कभी अंग्रेजी के लेक्चरर थे दादाजी, आज ऑटो चलाने को मजबूर, ऐसे बदली जिंदगी…दूसरों के लिए बने प्रेरणा

- Advertisement -

बहुत पुरानी कहावत है किस्मत (Luck) भी बड़ी गजब की चीज है। कब, कहां, किसकी बदल जाए कुछ कहा नहीं जा सकता। 74 साल के एक बुजुर्ग अंकल (Old Uncle) के साथ भी कुछ ऐसा हुआ, जिसकी कल्पना उन्होंने शायद कभी नहीं की होगी। जो कभी अंग्रेजी के लेक्चरर हुआ करते थे, वो आज ऑटो चला रहे हैं। बड़ी बात ये है कि अपनी इस जिंदगी से वो काफी खुश हैं और कई लोगों के लिए प्रेरणा भी बन चुके हैं। तो आइए, जानते हैं इस बुजुर्ग अंकल के बारे में दिलचस्प बातें….

यह भी पढ़ें:बीच सड़क में बुजुर्ग ने शानदार तरीके से की साइकिलिंग, वीडियो देख रह जाएंगे दंग

ये कहानी है बेंगलुरु (Bangalore) के रहने वाले Patabi Raman की। कभी रमन मुंबई में इंग्लिश के लेक्चरर हुआ करते थे, लेकिन आज ऑटो बेंगलुरु में ऑटो चला रहे हैं। बुजुर्ग अंकल बताते हैं कि मुंबई के पवई में एक प्राइवेट इंस्टीच्यूट में वो अंग्रेजी पढ़ाते थे, लेकिन उनकी सैलरी काफी कम थी। प्राइवेट नौकरी (Private Job) के कारण उन्हें पेंशन भी नहीं मिली। उन्होंने बताया कि उनके पास एमए और M.Ed की डिग्री है। एक समय जाति के कारण उन्हें कर्नाटक में कहीं नौकरी (Job) नहीं मिली, तो मुंबई चले गए। कई वर्षों तक उन्होंने मुंबई में नौकरी की। इसके बाद नौकरी छूट गई तो वापस बेंगलुरु चले आए। यहां आकर उन्होंने ऑटो रिक्शा (Auto Rickshaw) चलना शुरू कर दिया। विगत 14 साल से वो ऑटो चला रहे हैं।

बीवी को बुलाते हैं गर्लफ्रेंड

रमन ने बताया कि मुंबई (Mumbai) में उन्हें करीब 15 हजार रुपए मिलते थे। वहीं, ऑटो चलाकर रोजाना 500 से 700 रुपए तक कमा लेते हैं। इतने पैसों से उनका और उनकी गर्लफ्रेंड (Girl Friend) का गुजारा बड़े मजे से चल जाता है। उन्होंने बताया कि अपनी बीवी (Wife) को वो गर्लफ्रेंड बुलाते हैं। परिवार को लेकर रमन बताते हैं कि फिलहाल वो किराए के घर में रहते हैं, जिसका किराया 12 हजार रुपए है। किराया देने में उनका बेटा भी मदद करता है, लेकिन सब अलग-अलग रहते हैं। उन्होंने आगे बताया कि हम किसी को कुछ नहीं कहते, सब अपनी-अपनी जिंदगी जी रहे हैं और काफी खुश हैं। रमन की कहानी जानकर लोग उनकी तारीफ कर रहे हैं और सोशल मीडिया (Social Media) पर हर तरफ उनकी चर्चा हो रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है