Covid-19 Update

3,12, 233
मामले (हिमाचल)
3, 07, 924
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,599,466
मामले (भारत)
623,690,452
मामले (दुनिया)

औषधीय गुणों से भरपूर है ये फूल, जानिए इसके शानदार फायदे

दुनिया के सबसे खूबसूरत फूलों में से एक है कृष्ण कमल फूल

औषधीय गुणों से भरपूर है ये फूल, जानिए इसके शानदार फायदे

- Advertisement -

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि फूल अपनी खूबसूरती के लिए जाने जाते हैं। हालांकि, कुछ फूलों की मेडिकल प्रॉपर्टीज (Medical Properties) भी व्यक्ति को लाभ पहुंचाते हैं। वहीं, कुछ फूल ऐसे भी होते हैं जो खूबसूरत भी होते हैं और उनकी बहुत सारी मेडिकल प्रॉपर्टीज भी होती हैं। आज हम आपको कृष्ण कमल (Krishna Kamal) फूल के बारे में बताएंगे, जो कि दुनिया के सबसे खूबसूरत फूलों में से एक है।

यह भी पढ़ें:यहां है चमोली के फूलों की खूबसूरत घाटी, देखने के लिए उमड़ती है पर्यटकों की भीड़


कृष्ण कमल फूल को पैशन फ्लावर के नाम से भी जाना जाता है। ये फूल सफेद, नीले, बैंगनी जैसे कई रंगों में खिलता है। इस फूल के पौधे सालभर रहते हैं, लेकिन इन फूलों के खिलने की अवधि मई से जुलाई तक होती है। कृष्ण कमल फूल का संबंध महाभारत से माना गया है। मान्यता है कि कृष्ण कमल फूल में लगभग 100 नीली पंखुड़ियां हैं, जो कौरवों को संदर्भित करती हैं। इसके बीच में पांच पीली पंखुडियां पांडवों को इंगित करती हैं। वहीं, फूल के केंद्र में हरा बल्ब पांडवों की रानी द्रौपदी का प्रतीक है। इसके अलावा फूल में मौजूद तीन कलियों को ब्रह्मा, विष्णु और शिव का प्रतीक माना जाता है। जबकि, केंद्र में कृष्ण का सुदर्शन चक्र है।

 

ये हैं इसके औषधीय गुण

कृष्ण कमल फूल को शुरुआत में अमेरिका में उपयोग किया गया था। इसके बाद अब इस पौधे का इस्तेमाल यूरोप, भारत, फ्रांस, जर्मनी, संयुक्त राज्य अमेरिका आदि में इस्तेमाल किया जाता है। इन पौधे में सक्रिय घाटे जैसे एल्कलॉइड, फ्लेवोनोइड्स और अन्य संबंधित कंपाउंड पाए जाते हैं। इसलिए इस पौधे का उपयोग औषधीय प्रयोजनों के लिए किया जाता है। ये हर्ब कई तरह के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करती है और इस हर्ब को न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम्स को मैनेज के लिए प्रभावी माना जाता है।

 

कृष्ण कमल फूल के लाभ

विशेषज्ञों के अनुसार, कृष्ण कमल फूल से एडिक्शन को रोकने या उसका इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इतना ही नहीं ये नशा छोड़ने के बाद शरीर में होने वाले केमिकल रिएक्शन को रोकने में भी मदद करता है। इसके अलावा ये अवसाद को कम करने, अस्थमा अटैक का इलाज करने, मिर्गी के दौरे की गंभीरता को कम करने, मधुमेह पीड़ित व्यक्ति में रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने, सूजन, सिर दर्द, माइग्रेन, रेस्टलेस लेग सिंड्रोम, इरिटेबल बाउल सिंड्रोम और मूड को बेहतर करने में मदद करता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है