×

बीजेपी नेता ने जानवरों को बीफ परोसने का किया विरोध; ऋचा ने पूछा- क्या माता रानी का शेर घास खाएगा?

 सत्य रंजन बोराह के इस प्रदर्शन और बयान को लेकर सोमावर से ही सोशल मीडिया पर चर्चा छिड़ी हुई है

बीजेपी नेता ने जानवरों को बीफ परोसने का किया विरोध; ऋचा ने पूछा- क्या माता रानी का शेर घास खाएगा?

- Advertisement -

गुवाहाटी। भारत में बीफ (Beef) का उपभोग एक संवेदनशील मसला है। इसी कड़ी में बीजेपी (BJP) के विवादास्पद नेता सत्य रंजन बोराह ने असम राज्य चिड़ियाघर में जानवरों को ‘बीफ’ खिलाना बंद किये जाने की मांग को लेकर सोमवार को यहां चिड़ियाघर के बाहर प्रदर्शन का नेतृत्व किया। बतौर रिपोर्ट्स असम के बीजेपी नेता ने सोमवार को अपने समर्थकों के साथ गुवाहाटी चिड़ियाघर में बीफ ले जाने वाले एक वाहन को रोककर विरोध-प्रदर्शन किया और चिड़ियाघर में बीफ की आपूर्ति बंद करने की मांग की। बोराह ने कहा, ‘हिंदू गाय की पूजा करते हैं चिड़ियाघर में बीफ की जगह दूसरे जानवरों का मांस क्यों नहीं परोसा जा सकता?’


ऋचा बोलीं- शेर को तो बख्श दो भई

बीजेपी नेता सत्य रंजन बोराह के इस प्रदर्शन और बयान को लेकर सोमावर से ही सोशल मीडिया पर चर्चा छिड़ी हुई है। इस सब के बीच बॉलीवुड अभिनेत्री ऋचा चड्ढा (Richa Chaddha) का बयान सामने आया है। ऋचा चड्ढा ने ट्विटर पर इस खबर का एक लिंक शेयर करते हुए लिखा, ‘क्या माता रानी का शेर अब घास खाएगा? शेर को तो बख्श दो भई।’ ऋचा चड्ढा ने अपने इस ट्वीट में पेटा इंडिया और बीजेपी सांसद मेनका गांधी को भी टैग किया है।

यह भी पढ़ें: #Tanishq के एड पर भड़कीं कंगना: लव जिहाद के समर्थन का आरोप; कंपनी ने वापस लिया विज्ञापन

वहीं, इस पूरे मामले को लेकर राज्य बीजेपी किसान मोर्चा के पूर्व उपाध्यक्ष बोरा ने कहा कि यदि चिड़ियाघर के अधिकारी और असम सरकार जानवरों को बीफ देना बंद नहीं करती है तो उन्हें इसके ‘परिणामों का सामना’ करने के लिए तैयार रहना चाहिए। गौरतलब है कि बीफ और अन्य प्रकार के मांस को आमतौर पर बाघों और शेरों को खिलाया जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whatsapp Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है