Covid-19 Update

2, 48, 895
मामले (हिमाचल)
2, 31, 328
मरीज ठीक हुए
3885*
मौत
37,618,271
मामले (भारत)
332,278,790
मामले (दुनिया)

हिमाचल में धूमधाम से मनाया क्रिसमस, सैलानियों का उमड़ा सैलाब; होटल और सड़कें पूरी तरह पैक

त्योहार के साथ वीकेंड होने से होटल जैम पैक, कोविड नियमों के तहत हुए कार्यक्रम

हिमाचल में धूमधाम से मनाया क्रिसमस, सैलानियों का उमड़ा सैलाब; होटल और सड़कें पूरी तरह पैक

- Advertisement -

शिमला। पूरे हिमाचल में क्रिसमस (Christmas ) का पर्व धूमधाम व उल्लास के साथ मनाया गया। क्रिसमस मनाने बाहरी राज्यों से भी सैंकड़ों की तादाद में पर्यटक हिमाचल पहुंचे। वीकेंड के चलते सैलानियों की आमद दोगुनी हो गई। जिससे प्रदेश भर के होटल पूरी तरह से पैक हो गए। वहीं भारी संख्या में हिमाचल पहुंचे पर्यटकों के चलते सड़कों पर भी लंबा जाम लगा रहा। जिसे प्रदेश पुलिस के जवान मुस्तैदी से कंट्रोल करते दिखे। क्रिसमस पर पूरे दिन रिज मैदान और मालरोड सैलानियों से गुलजार रहा। हजारों की संख्या में सैलानी रिज मैदान पहुंचे। दोपहर के समय रिज पर तिल धरने की भी जगह नहीं बची।

 

रिज से लक्कड़ बाजार, मरीना चौक, एजी चौक तक सैलानियों का हुजूम जुटा रहा। बड़ी संख्या में सैलानियों ने साथ लगते पर्यटन स्थलों कुफरी, नारकंडा, मशोबरा और नालदेहरा का भी रुख किया।  रिज पर स्थित ऐतिहासिक क्राइस्ट चर्च में भी सुबह 11 बजे प्रार्थना सभा हुई। इस प्रार्थना सभा में लोगों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया और यीशु मसीह उनको याद किया गया। इसके साथ हीयीशु मसीह से कोविड (Covid) महामारी से जल्द निजात दिलाने की प्रार्थना भी की गई। क्राइस्ट चर्च के पादरी सोहन लाल ने बताया कि क्रिसमस के मौके पर कोविड नियमों की पालना के साथ-साथ यीशु मसीह को याद किया गया है और प्रार्थना की गई कि कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रोन (Omicron) से निपटने के लिए सरकार सक्षम हो सके और लोगों को जल्द इसमहामारी से निजात मिले। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों की माने तो न्यू ईयर तक शहर सैलानियों से गुलजार रहने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें:एचआरटीसी क्रिसमस पर यात्रियों के लिए लाया बड़ा तोहफा, क्या दे रहा निगम यहां जानें

 

 

होटल में कमरे ना मिलने से यहां वहां भटकते दिखे पर्यटक

शाम के समय टूरिस्टों को शहर के होटलों में कमरे ढूंढे नहीं मिले। सैलानियों की भारी भीड़ का होटलए बेड एंड ब्रेक फास्ट और होम स्टे संचालकों ने भी खूब फायदा उठाया। कई जगह कमरों के एवज में जमकर ओवरचार्जिंग भी की गई। शिमला में कमरे न मिलने के कारण टूरिस्टों को मशोबराए नालदेहराए फागू और ठियोग में कमरे तलाशने पड़े। क्रिसमस के मौके पर शहर के होटलों और रेस्टोरेंटों में डायन एंड डांस और गाला नाइट का आयोजन किया गया है।

 

 

होटल में पर्यटकों के लिए आयोजित किए कार्यक्रम

भारी संख्या में सैलानियों ने पार्टी में भाग लिया। शहर के निजी और पर्यटन निगम के होटलों में आयोजित कार्यक्रमों के बाद सैलानियों को गिफ्ट भी बांटे जा रहे हैं। पर्यटन विकास निगम के होटल हाली डे होम में आयोजित कश्मीरी फूड फेस्टिवल के दौरान सैलानियों ने लजीज व्यंजनों का लुत्फ उठाया।

वहीं, धर्मशाला (Dharamshala) के सेंट जॉन ऑफ द वाइल्डरनेस चर्च में भी क्रिसमस धूमधाम से मनाया गया। क्रिसमस पर सुबह 11 बजे से दोपहर साढ़े 12बजे तक विशेष प्रार्थना सभा हुई है। इस दौरान केवल कमेटी के पदाधिकारी व सदस्यों ने ही भाग लिया, जबकि अन्य कार्यक्रम इस बार कोरोना के कारण आयोजित नहीं किए गए। वहीं,जिलेभर में भी क्रिसमस की पूर्व संध्या पर कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। विदेशियों के साथ स्थानीय लोगों ने क्रिसमस की पूर्व संध्या पर धर्मशाला में सेंट जॉन ऑफ द वाइल्डरनेस चर्च मेंपूजा-अर्चना की। बेल्जियम (Belgium) के एक राजनयिक ने कहा कि ष्हम घर से बहुत दूर हैं और यहां साथी ईसाइयों के साथ क्रिसमस मनाने के लिए बहुत आभारी हैं। इसके अलावा ऊना(Una) की सैन जुआन आश्रम चर्च को भी रंग बिरंगी लाइटों और फूलों से सजाया गया है। इस मौके पर बड़ी तादाद में लोगों ने प्रभु यीशु को याद किया। सैन जुआन आश्रम द्वारा गिरजाघरपरिसर में प्रभु यीशु के जन्म को दर्शाती हुई झांकियां भी लगाई गई हैं, जिनमें मरियम, प्रभु यीशु, गडरिये और स्वर्ग से आए दूत दिखाए गए हैं।

विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी मनाली में क्रिसमस के लिए देशभर के पर्यटकों का जनसैलाब उमड़ा। मनाली में सभी होटल पैक चल रहे हैं। ऐसे में मनाली में पर्यटकों वाहनों की तादाद बढ़ने से पलचान से लेकर मनाली तक 10 किलोमीटर जाम में पर्यटक व स्थानीय लोग परेशान हुए। जिससे सरकार प्रशासन के इंतजामों की पोल खोलकर रख दी है।

चर्च में रातभर पूजा प्रार्थना के साथ ही प्रभु यीशुकी जीवन गाथाओं का वर्णन भी किया गया। इस दौरान विभिन्न धर्मों के लोगों ने चर्च में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई और एक दूसरे को क्रिसमस की बधाई दी। संजोआन आश्रम के फादरजेम्स ने इस अवसर पर सभी को रोशनी के इस पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं दी। उन्होंने बताया कि 25 दिसंबर को ईसा मसीह का जन्म विश्व में प्यार का संदेश देने के लिए हुआ था। इस दिनको क्रिसमस डे कहा जाता है और पूरे दिसंबर माह को क्राइस्ट.मास के नाम से जाना जाता है। क्राइस्ट.मास के खत्म होने के बाद ही ईसाई नववर्ष की शुरुआत होती है। वहीं, व्हाइट क्रिसमसकी आस में आए पर्यटकों को मायूसी हाथ लगी। बर्फबारी न होने से वह व्हाइट क्रिसमस का लुत्फ नहीं उठा पाए। आपको बताते चलें कि इस समय पूरा हिमाचल (Himachal) पर्यटकों सेगुलजार है। पर्यटकों ने क्रिसमस को बड़ी धूमधाम से मनाया। इस बार क्रिसमस से प्रदेश के पर्यटन व्यवसाय को काफी फायदा हुआ है। क्षेत्र के होटलों (Hotel) में इस बार बुकिंग काफीअधिक है। इसकी वजह पंजाब व दिल्ली (Delhi) में छुट्टियां हैं। इस कारण लोग यहां क्रिसमस के बहाने छुट्टियां मनाने पहुंच गए हैं। क्रिसमस पर शिमला में 90, डलहौजी में 100, सोलन,कसौली में 95, धर्मशाला में 70 फीसदी होटल पैक हैं। मनाली में सरकारी होटल पैकए निजी में 80 फीसदी तक ऑक्यूपेंसी है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है