Covid-19 Update

3,12, 308
मामले (हिमाचल)
3, 07, 991
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,606,460
मामले (भारत)
625,796,026
मामले (दुनिया)

सुख-समृद्धि व उन्नति के लिए घर के पूजा स्थान के लिए करें इन रंगों का चयन

किसी स्थान पर गलत रंग का चुनाव आपको परेशानी में भी डाल सकता है

सुख-समृद्धि व उन्नति के लिए घर के पूजा स्थान के लिए करें इन रंगों का चयन

- Advertisement -

पूजा घर में जाते ही हमारे भीतर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है और नकारात्मकता अपने आप खत्म होती चली जाती है। इसी सकारात्मकता को बनाये रखने के लिए पूजा घर में उचित रंग का होना बहुत जरूरी है। घर में किसी भी स्थान के लिए रंग मुख्य कारकों में से एक है, जो वास्तु के अनुसार भी घर की उन्नति के लिए जिम्मेदार है। वास्तव में कुछ स्थान सिर्फ रंगों के सही चुनाव से खिल उठते हैं, तो वहीं किसी स्थान पर गलत रंग का चुनाव आपको परेशानी में भी डाल सकता है। मुख्य रूप से जब बात आपके घर के सभी स्थानों में किसी विशेष रंग का चुनाव करने की होती है तब उनका वास्तु के अनुसार होना बहुत ज्यादा मायने रखता है।

यह भी पढ़ें- वास्तु शास्त्र : घर पर भूलकर भी ना रखें ये चीजें वरना होगा नुकसान

पूजा के स्थान की बात की जाए तो उस स्थान पर लाल रंग भी अत्यंत शुभ रंग माना जाता है। लाल रंग चीजों को बढ़ाने का रंग होता है। इसका मतलब ये है कि इस रंग का इस्तेमाल करने से घर में बरकत बनी रहती है और आर्थिक लाभ भी होते हैं। इसके साथ आप पूजा स्थान पर नारंगी रंग का इस्तेमाल भी कर सकते हैं क्योंकि ये रंग साहस का प्रतीक माना जाता है। शुभता की दृष्टि से नारंगी और सिंदूरी रंग पूजा की भावना जगाते हैं और ध्यान केंद्रित करने में मदद करते हैं।

पीला रंग सूर्य की सकारात्मक ऊर्जा का संकेत देता है और अत्यंत शुभ माना जाता है। यदि ज्योतिष की बात भी की जाए तब भी पीला रंग किसी भी शुभ काम में इस्तेमाल में लाया जाता है। वास्तु के हिसाब से पूजा स्थल पर पीले रंग का इस्तेमाल करने से किसी भी कार्य में सफलता मिलती है क्योंकि इसे सफलता का रंग माना जाता है।

वास्तु के अनुसार सफेद रंग चुनना भी काफी अच्छा माना जाता है। यह रंग आराम करने और एक उच्च व्यक्ति के साथ जुड़ने के लिए एक सकारात्मक स्थान बनाने की दिशा की तरफ बढ़ावा देता है। सफेद रंग शुद्धता और स्वच्छता का प्रतीक है और दोनों महत्वपूर्ण कारक पूजा स्थान की आध्यात्मिक जगह के रूप में कार्य करते हैं।

हरा रंग जीवन और सद्भाव का प्रतीक माना जाता है। इंद्रियों को तुरंत शांत करने और अपने घर के अंदर सकारात्मकता लाने के लिए, हरे रंग को पूजा स्थान ,घर के मंदिर में ना रखें ऐसी मूर्तियां के रंगों में जरूर शामिल करें। हरा रंग जीवन, प्रकृति और सद्भाव का प्रतीक माना जाता है जो घर में सुख समृद्धि का प्रतीक होता है। यह रंग सही मात्रा में ऊर्जा प्रदान करता हैए इसलिए पूजा स्थान पर इस रंग को जरूर शामिल करें।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है