हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022

BJP

25

INC

40

अन्य

3

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

कुल्लू अंतरराष्ट्रीय दशहरा: ढोल-नगाड़ों की थाप पर निकली भगवान नरसिंह की भव्य जलेब

देवमयी हुआ कुल्लू शहर, लोगों नाचते.गाते हुए इस जलेब का आनंद

कुल्लू अंतरराष्ट्रीय दशहरा: ढोल-नगाड़ों की थाप पर निकली भगवान नरसिंह की भव्य जलेब

- Advertisement -

कुल्लू। हिमाचल के कुल्लू जिला में अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव (International Dussehra Festival) के दूसरे दिन शाही अंदाज में भगवान नरसिंह (Lord Narsingh) की भव्य जलेब (Grand Jaleb) निकाली गई। वी देवताओं ने अपने हारियानों के साथ ढोल नगाड़ों की थाप पर इसमें भाग लिया। अब कुल्लू दशहरा खत्म होने तक रोजाना ये जलेब शहर में निकाली जाएगी। इस जलेब को राजा की जलेब भी कहा जाता हैए क्योंकि परंपरा के अनुसार इस जलेब में कुल्लू के राजा पालकी में सज-धज कर यात्रा करते हैं। भगवान रघुनाथ के अस्थाई शिविर के साथ लगी राजा की चानणी से लेकर अस्पताल, कॉलेज गेट होते हुए वापस उसी स्थान तक ढोल नगाड़ों की थाप पर नरसिंह की जलेब निकाली गई। इस जलेब में महाराजा कोठी क्षेत्र के देवी देवताओं में हुरंग नारायण जौंगा, वीर कैला, लौट, वीर कैला कमांद, पांच वीर खलियाणी, महावीर जौंगा, जम्गग्नि ऋषि चकनाणी आदि देवी देवता अपने हारियानों के साथ ढोल नगाड़ों की थाप पर नरसिंह की जलेब का हिस्सा बने।

यह भी पढ़ें:सीएम जयराम के ड्रीम प्रोजेक्ट मंडी एयरपोर्ट के लिए शुरू हुई भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया

इस जलेब में आगे-आगे भगवान नरसिंह की घोड़ी सज-धज कर चलती है, वहीं पीछे-पीछे राजा की पालकी के साथ दोनों तरफ देवता के रथ चलते हैं। इस आलौकिक नजारे को देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ता है। पूरा कुल्लू शहर इस दौरान देवमयी हो जाता है। दर्जनों देवी-देवता ढोल-नगाड़ों की थाप पर इस जलेब में पूरे शहर की परिक्रमा करते हैं और लोग नाचते.गाते हुए इस जलेब का आनंद लेते हैं। उधरए भगवान रघुनाथ जी के मंदिर में हर रोज की तरह पूजा अर्चाना की गई और भक्तों ने भगवान रघुनाथ (Lord Raghunath) जी से आशीर्वाद प्राप्त किया। जबकि अन्य स्थानों में भी अपनी अपनी घाटी के देवी देवताओं ने हर रोज की तरह देव मिलन किया और नृत्य में भी भाग लिया। अलग अलग स्थानों में हुए देव नृत्य को देखने के लिए देश और विदेश से आए पर्यटक भी जुटे और इस अनोखी देव संस्कृति का करीब से निहारा। बता दें कि राजा की जलेब की परंपरा सदियों से चली आ रही है। जब से दशहरा पर्व शुरू हुआए तभी से यह परंपरा भी निभाई जा रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है