Covid-19 Update

2,18,000
मामले (हिमाचल)
2,12,572
मरीज ठीक हुए
3,646
मौत
33,617,100
मामले (भारत)
231,605,504
मामले (दुनिया)

सावधान! भारत में लगभग एक तिहाई घरेलू पीसी यूजर्स को साइबर हमलों का खतरा

सभी मैलवेयर हमलों के लिए दुनिया भर में जोखिम अनुपात बढ़ गया है

सावधान! भारत में लगभग एक तिहाई घरेलू पीसी यूजर्स को साइबर हमलों का खतरा

- Advertisement -

डिजिटल सुरक्षा और गोपनीयता प्रदाता अवास्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग एक तिहाई (28.22 प्रतिशत) घरेलू पीसी उपयोगकतार्ओं को साइबर हमलों का सबसे बड़ा जोखिम है। अवास्ट की लेटेस्ट ग्लोबल पीसी रिस्क रिपोर्ट में उपयोगकतार्ओं द्वारा बड़े ‘खतरों का सामना करने की संभावना पर भी ध्यान दिया गया है। अधिक परिष्कृत या पहले कभी नहीं देखे गए खतरों के रूप में परिभाषित, सुरक्षा सॉ़फ्टवेयर में शामिल सामान्य सुरक्षा तकनीकों को बायपास करने के लिए डिजाइन किया गया, जैसे कि हस्ताक्षर, अनुमान, अनुकरणकर्ता, यूआरएल फिल्टरिंग , और ईमेल स्कैनिंग शामिल है।

यह भी पढ़ें:  नई साइबर सुरक्षा तकनीक वाहनों में कंप्यूटर नेटवर्क की करेगी सुरक्षा

इस प्रकार के खतरों के लिए, भारतीय घरेलू उपयोगकतार्ओं का जोखिम अनुपात 5.78 प्रतिशत है, जो वैश्विक औसत से अधिक है।दुनिया भर के घरेलू उपयोगकतार्ओं के पास किसी भी प्रकार के पीसी मैलवेयर का सामना करने की 29.39 प्रतिशत संभावना है, जो पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 5 प्रतिशत की वृद्धि दशार्ता है। कुछ समय पहले, एशिया, अफ्रीका और पूर्वी यूरोप जैसे अधिक संघर्षपूर्ण सामाजिक-राजनीतिक स्थितियों वाले भौगोलिक क्षेत्रों को ऑनलाइन दुनिया में भी अधिक जोखिम का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: हाइब्रिड कारें के लिए कंप्यूटर चिप की कमी बड़ी समस्या,सड़क से होने लगी आउट

अवास्ट में थ्रेट इंटेलिजेंस के निदेशक मिशल सलात ने एक बयान में कहा, सभी मैलवेयर हमलों के लिए दुनिया भर में जोखिम अनुपात बढ़ गया है, और हम देख सकते हैं कि भारत कोई अपवाद नहीं है। महामारी में, इंटरनेट कई लोगों के लिए एक ‘जीवन रक्षक’ रहा है, जिससे उन्हें प्रियजनों के साथ जुड़े रहने के लिए सशक्त बनाया गया है।सलात ने कहा, साइबर अपराधियों ने इसका पूरा लाभ उठाने पर ध्यान दिया है, और इसलिए हमने विभिन्न प्रकार के अनुरूप अभियानों को ऑनलाइन गतिविधियों में वृद्धि का लाभ उठाते हुए देखा है, जैसे कि कोविड -19 संबंधित हमले, सेक्सटॉर्शन अभियान, स्पाईवेयर और रैंसमवेयर है।इस रिपोर्ट में शामिल डेटा अवास्ट के खतरे का पता लगाने वाले नेटवर्क से एकत्र किया गया है, और एक डेटा स्नैपशॉट का प्रतिनिधित्व करता है, जिसे अवास्ट ने 16 मार्च और 14 अप्रैल, 2021 के बीच अपने पीसी उपयोगकतार्ओं की सुरक्षा के खतरों के साथ बनाया है।

–आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है