Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

लाहुल: रस्सी के सहारे उफनते जाहलमा नाले को पार कर कुल्लू अस्पताल पहुंचाया घायल

नाला पार करवाते बहने से बाल बाल बचा एक युवक

लाहुल: रस्सी के सहारे उफनते जाहलमा नाले को पार कर कुल्लू अस्पताल पहुंचाया घायल

- Advertisement -

केलांग। हिमाचल के लाहुल स्पीति सहित (Lahaul Spiti) पूरे प्रदेश के नदी नाले उफान पर हैं। लोगों को कई बार जान जोखिम में डालकर और मजबूरी में इन उफान भरे नदी नालों को पार करना पड़ रहा है। ऐसा ही मामला शुक्रवार को लाहुल स्पीति जिला में देखने को मिला। जब शुक्रवार सुबह हुए एक सड़क हादसे (Road Accident) में घायल युवक को कुछ लोगों ने अपनी जान जोखिम में डाल कर उफनते जाहलमा नाले (Jahlma Nala) से रस्सी के सहारे निकाला। घायल को नाला पार करवाते समय एक व्यक्ति बहने से बाल बाल बच गया। बताया जा रहा है कि अगर समय पर अन्य युवक उसे ना पकड़ते तो उसे बहने ने नहीं बचाया जा सकता था और ऐसे में उसकी जान भी जा सकती थी।

यह भी पढ़ें: भूस्खलन से एनएच 707 हुआ बंद, पांवटा से हाटकोटी जाने वाले इस वैकल्पिक मार्ग का करें इस्तेमाल

 

 

बता दें कि शुक्रवार सुबह जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति के तिंदी में कुठाड़ बस स्टेंड के समीप एक वाहन सड़क से करीब 100 मीटर नीचे लुढ़क गया। इस हादसे में जतिन कुमार पुत्र रेवल निवासी कुठाड़ डाकघर तिंदी लाहुल-स्पीति और राहुल कुमार पुत्र सुर चंद निवासी लोहनी लाहुल-स्पीति घायल हो गए। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची और घायलों का उदयपुर अस्पताल (Udaipur Hospital)में उपचार के लिए पहुंचाया गया। जहां चिकित्सकों ने जतिन की गंभीर हालत को देखते हुए उसे कुल्लू रेफर कर दिया। घायल को गाड़ी में डालकर कुल्लू ले जा रहे लोगों का उफनते जाहलमा नाले ने रास्ता रोक दिया। ऐसे में रस्सी के सहारे लोग नाले में उतरे और कड़ी मशक्कत के बाद घायल युवक को निकाला गया। इस दौरान एक व्यक्ति नाले में बहने से बाल-बाल बच गया जिसे अन्य युवकों ने बाजू से पकड़कर बहने से बचा लिया। घायल युवक को कुल्लू अस्पताल पहुंचाया गया है, जहां उसका इलाज चल रहा है।

 

बता दें कि  हिमाचल प्रदेश के लाहुलस्पीति के जाहलमा नाला के आर.पार फंसे लोगों को आज अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली के एक्सपर्ट टीम ने पार कराया। बता दें कि शांशा नाले पर भारी बाढ़ से हुए क्षतिग्रस्त पुल के चलते फंसे हुए लोगों को शांशा पुल पर सीढ़ी के सहारे रेस्क्यू किया गया। तकनीकी शिक्षा मंत्री डाण् रामलाल मार्कंडेय ने भी इसी सीढ़ी से जोखिम उठाकर शांशा नाला पार किया और जाहलमा पहुंचे। दोपहर तक चले इस पूरे अभियान की निगरानी उन्होंने स्वयं की। हालांकिए आज भी मौसम के साथ नहीं देने के चलते हेलीकॉप्टर से रेस्क्यू करने का काम नहीं हो पाया। ये सभी लोग पिछले चार दिनों से नाले में बाढ़ आने के बाद से फंसे हुए हैं। इसी बीच सीएम जयराम ठाकुर ने कहा है कि फंसे हुए लोगों को मौसम ठीक होने पर हेलीकॉप्टर के माध्यम से रेस्क्यू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कैबिनेट मंत्री डॉ रामलाल मार्कंडेय लाहुल.स्पीति में ही मौजूद हैं और हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है