×

Jai Ram बोले- नो मास्क, नो सर्विस नीति का कड़ाई से हो पालन

होम आइसोलेशन तंत्र को सुदृढ़ करने पर बल देने को कहा

Jai Ram बोले- नो मास्क, नो सर्विस नीति का कड़ाई से हो पालन

- Advertisement -

नालागढ़। राज्य में होम आइसोलेशन (Home Isolation) तंत्र को सुदृढ़ करने के अलावा कोविड-19 (Covid-19) मरीजों का पता लगाने के लिए परीक्षण संख्या बढ़ाने पर विशेष बल दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि दुकानदारों को कोरोना वायरस (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए नो मास्क, नो सर्विस नीति (No Mask, No Service Policy) का कड़ाई से पालन करना चाहिए। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने यह बात आज सोलन जिला के नालागढ़ में सिरमौर जिला की कोविड-19 की वर्चुअली समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। सीएम ने कहा कि राज्य में 90 प्रतिशत से अधिक कोविड-19 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। इसलिए होम आइसोलेशन तंत्र को सुदृढ़ करने पर बल दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार चिकित्सकों को भी होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों का उचित उपचार और नियमित निगरानी सुनिश्चित करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन के अंतर्गत घरों में रहने वाले मरीजों की स्वास्थ्य विभाग (Health Department) को स्वास्थ्य मापदंड के अनुसार नियमित निगरानी करनी चाहिए। पंचायती राज संस्थाओं के निर्वाचित प्रतिनिधियों को भी होम आइसोलेशन के अंतर्गत रहने वाले मरीजों की स्वास्थ्य स्थिति पर नजर रखनी चाहिए।


यह भी पढ़ें: ऑक्सीजन की हिमाचल के इस जिला में अब नहीं होगी कमी, कुछ ऐसा हो गया है जुगाड़

 

 

ऑक्सीजनयुक्त बिस्तरों की क्षमता को भी बढ़ाया जाना चाहिए

जयराम ठाकुर ने कहा कि कालाअंब और पांवटा साहिब क्षेत्रों के उद्योगपत्तियों को उनकी इकाइयों में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा जारी की गई मानक संचालन प्रक्रिया और दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों के संपर्कों का पता लगाने पर ध्यान दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे राज्य में कोविड-19 मरीजों का समय पर पता लगाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि जिले में ऑक्सीजनयुक्त बिस्तरों (Oxygenated Beds) की क्षमता को भी बढ़ाया जाना चाहिए। सीएम ने कहा कि जिला प्रशासन को विवाह समारोह जैसे सामाजिक कार्यों के लिए निर्धारित अधिकतम सीमा का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि आवश्यक हो तो उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन को मामलों के बढ़ने की स्थिति में आवश्यक मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि लोगों को फेस मास्क और हैड सैनिटाइजर का प्रयोग करने और सार्वजनिक स्थानों में भीड़-भाड़ से बचने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मंदिरों और अन्य धार्मिक स्थानों पर भी श्रद्धालुओं के लिए मानक संचालन प्रक्रिया का प्रभावी कार्यान्यवन सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: जयराम ठाकुर बोले: टांडा मेडिकल कॉलेज में बढ़ाई जाए बिस्तरों की क्षमता

 

 

लोग सामाजिक दूरी और मास्क का करें प्रयोग, पुलिस करे सुनिश्चित

जयराम ठाकुर ने कहा कि अस्पतालों (Hospitals) में भर्ती कोविड-19 मरीजों की स्वास्थ्य मापदंडों के अनुसार जांच के लिए वरिष्ठ चिकित्सकों को भी नियमित रूप से जांच करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मरीजों को उनकी बीमारी और दवा के बारे में उचित परामर्श दिया जाना चाहिए। पुलिस (Police) को भी यह सुनिश्चित करना चाहिए कि लोग सामाजिक दूरी और मास्क का प्रयोग करें। स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने कहा कि टीकाकरण की गति को बढ़ाना होगा क्योंकि यही इस वायरस से स्वयं को बचाने का एक प्रभावी साधन है। उन्होंने कहा कि जिला के सभी अस्पतालों में पर्याप्त डॉक्टर, पैरा मेडिकल स्टॉफ (Para Medical Staff) और उपकरण उपलब्ध करवाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि मुख्य चिकित्सा अधिकारियों द्वारा किसी भी स्थिति से निपटने के लिए दवाइयों और अन्य उपकरणों का पर्याप्त भंडारण सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी निजी अस्पतालों को आवश्यकता पड़ने पर किसी भी स्थिति से निपटने के लिए सेवाएं देने के लिए तैयार रहने को कहा जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: मेडिकल कॉलेज नेरचौक में बंद हो सकती ओपीडी! सिर्फ कोरोना मरीजों का होगा उपचार

औद्योगिक क्षेत्र कालाअंब और पांवटा साहिब से सबसे अधिक एक्टिव केस

डीसी सिरमौर डॉ. आरके परूथी ने नाहन से वर्चुअली बैठक में भाग लेते हुए कहा कि जिले में कोविड-19 मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि कुल 598 सक्रिय मामलों में से लगभग 500 मामले औद्योगिक क्षेत्र कालाअंब और पांवटा साहिब (Paonta Sahib) से हैं। उन्होंने कहा कि इनमें से लगभग 580 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में मामलों की संख्या बढ़ना चिंता का एक बड़ा कारण है। उन्होंने कहा कि महामारी के प्रसार को रोकने के लिए अपनाई जाने वाली सावधानियों के बारे में लोगों को जागरूक व शिक्षित करने के लिए जिला में प्रभावी आईईसी अभियान शुरू किया गया है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल (Health Minister Dr. Rajeev Saizal), सांसद व राज्य बीजेपी अध्यक्ष सुरेश कश्यप, विधायक परमजीत सिंह पम्मी, जल प्रबंधन बोर्ड के अध्यक्ष दर्शन सिंह सैनी, पूर्व विधायक केएल ठाकुर, डीसी सोलन केसी चमन भी इस अवसर पर नालागढ़ में उपस्थित थे।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है