Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

#Mathura: मंदिर में घुस पढ़ी नमाज, 4 युवकों पर केस; भवन में शुद्धिकरण के लिए हुआ हवन

मंदिर प्रबंधन का कहना है कि यात्रियों ने उनसे नमाज अदा करने की अनुमति नहीं ली थी

#Mathura: मंदिर में घुस पढ़ी नमाज, 4 युवकों पर केस; भवन में शुद्धिकरण के लिए हुआ हवन

- Advertisement -

मथुरा। उत्तर प्रदेश स्थित मथुरा (Mathura) के एक मंदिर (Nanda Mahal Temple) में कुछ मुस्लिम युवकों द्वारा नमाज (Namaz) पढ़े जाने का मामला सामने आया है। अब इस मामले को लेकर बवाल बढ़ता जा रहा है। मंदिर सेवायतों की शिकायत के बाद चार लागों के खिलाफ केस देस किया गया है। चारों के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप है। मथुरा के नंदमहल मंदिर प्रशासन का आरोप है कि- धोखे से मंदिर परिसर में नमाज पढ़ी गई। हिंदुवादी संगठनों ने इस पर नाराजगी जताई है। मंदिर प्रबंधन का कहना है कि यात्रियों ने उनसे नमाज अदा करने की अनुमति नहीं ली थी। इस मामले में धारा 153A, 295, 505 के तहत बरसाना थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है। वहीं, इस मामले के बाद सोमवार मंदिर परिसर में शुद्धिकरण के लिए हवन किया गया।

जो श्रीराम और श्रीकृष्ण का रास्ता है, वही पैगंबर का रास्ता है

शुरुआती पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि मंदिर में नमाज पढ़ने वाले दिल्ली की खुदाई खिदमतगार संस्था के लोग हैं। इन्होंने नमाज पढ़ने का फोटो सोशल मीडिया (Social Media) में वायरल किया था। जानकारी के मुताबिक, दिल्ली की संस्था खुदाई खिदमतगार के सदस्य फैजल खान और मुहम्मद चांद गांधीवादी कार्यकर्ता निलेश गुप्ता और आलोक रत्न के साथ ब्रज चौरासी कोस की यात्रा पर हैं। शनिवार दोपहर यह लोग नंदगांव पहुंचे। दोपहर दो बजे जौहर की नमाज़ के वक्त वे नंदमहल मंदिर में थे। फैजल खान और मोहम्मद चांद ने वहीं नमाज अदा की। विश्व प्रसिद्ध नन्दबाबा मंदिर में दो युवकों के नमाज अदा करने की सोशल मीडिया पर फोटो वायरल होते ही पक्ष-विपक्ष में कमेंट होने से माहौल गरमा गया। इस मामले में हिंदूवादी संगठनों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

यह भी पढ़ें: मंदिर जा रही युवती की पीठ में घोंप दिया चाकू, आरोपी बाइक पर फरार

नंदगांव में पड़ाव के दौरान फैजल खान ने बातचीत में कहा कि उनका ग्रुप साइकिल से दिल्ली से पहले वृंदावन आया और फिर मदन टेर से अपनी ब्रजयात्रा शुरू करके नंदगांव पहुंचा। यहां प्रेम की मिसाल मीरा जिंदा हैं, वरना राजस्थान की कितनी ही रानियां हैं, जिनको कोई नहीं जानता। यदि मस्जिद या मंदिर जाकर हम संकीर्ण मानसिकता के हो रहे हैं तो हमें वहां जाना छोड़ देना चाहिए। उन्होंने कहा जो श्रीराम और श्रीकृष्ण का रास्ता है, वही पैगंबर का रास्ता है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है