Covid-19 Update

2, 85, 044
मामले (हिमाचल)
2, 80, 865
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,148,500
मामले (भारत)
531,112,840
मामले (दुनिया)

हिमाचल: पांगी को अलग विधानसभा क्षेत्र बनाने की उठी मांग, ज्ञापन के साथ दी ये चेतावनी

पंगवाल एकता मंच ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, कहा विकास के क्षेत्र में पिछड़ रहा पांगी

हिमाचल: पांगी को अलग विधानसभा क्षेत्र बनाने की उठी मांग, ज्ञापन के साथ दी ये चेतावनी

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश में चुनावी वर्ष में चंबा (Chamba) के जनजातीय क्षेत्र पांगी को अलग विधानसभा (Vidhan Sabha) क्षेत्र बनाने की मांग फिर से उठने लगी है। बुधवार को पंगवाल एकता मंच (Pangwal Ekta Manch) राजभवन पहुंचा और राज्यपाल को ज्ञापन सौंप कर पांगी को अलग विधानसभा बनाने के साथ स्वयत विकास परिषद का गठन करने और चेनी टनल का निर्माण करने की मांग की। एकता मंच ने साफ कर दिया कि यदि इन मांगों पर संज्ञान नहीं लिया गया, तो आने वाले समय में विधानसभा चुनाव में पांगी क्षेत्र के सभी लोग चुनावों का बहिष्कार (Vidhan sabha Election Boycott) करेंगे।

यह भी पढ़ें: सीएम जयराम बोले: केंद्र के समक्ष उठाया जाएगा ट्रांस गिरी क्षेत्र को जनजातीय दर्जा दिलवाने का मामला

पंगवाल एकता मंच के अध्यक्ष त्रिलोक ने कहा विधानसभा क्षेत्र ना होने से पांगी घाटी विकास के क्षेत्र में हर रोज पिछड़ रही है। पांगी में 16 हजार से ज्यादा मतदाता है और सर्दी के मौसम में छह माह तक देश व प्रदेश से कटे रहने वाले जनजातीय क्षेत्र पांगी (Pangi) की इस समस्या को हल करने के लिए सरकार की ओर से आज तक कोई भी उचित कदम नहीं उठाए गए हैं। पांगी विधानसभा क्षेत्र को बनाने की मांग काफी लंबे समय से की जा रही है। पांगी को भरमौर विधानसभा के साथ रखा गया है जबकि भौगोलिक परिस्थितियां बिल्कुल अलग है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में नए जिले बनाने पर सीएम जयराम ठाकुर ने कह दी बड़ी बात, यहां जाने

क्षेत्र के लोगो को भरमौर पहुंचना मुश्किल हो जाता है। 2026 में होने वाली डिलिमिटेशन में पांगी को अलग से विधानसभा बनाए जाएं। इसके अलाव पांगी स्वंयत विकास परिषद का जल्द गठन करने का अग्राह किया गया है। साथ ही चेनी टनल निर्माण की मांग को लेकर राज्यपाल (Governor) के माध्यम से पीएम और केंद्रीय मंत्री को भी ज्ञापन (Memordum) भेजा गया है। उन्होंने कहा कि पंगवाल एकता मंच एक गैर राजनीतिक मंच है जोकि पांगी के लोगों की लड़ाई लड़ने का काम करता है। प्रदेश में चुनावी वर्ष है ऐसे में यदि यह सरकार उनकी मांगों को नही मानती है तो आने वाले विधानसभा चुनावों का बहिष्कार किया जाएगा ।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है