Covid-19 Update

2,86,061
मामले (हिमाचल)
2,81,413
मरीज ठीक हुए
4122
मौत
43,452,164
मामले (भारत)
551,819,640
मामले (दुनिया)

एक बार जरूर चखें अपने देश के इन पांच यूनिक व्यंजनों को

हर जगह पकाने की विधि है सबकी अलग अलग

एक बार जरूर चखें अपने देश के इन पांच यूनिक व्यंजनों को

- Advertisement -

एन लोथुंगबेनी हमसोये/ नई दिल्ली। भारत विविधताओं का देश कहा जाता है। यह विविधता सिर्फ धर्म, संस्कृति, जीवनशैली, भाषा, पहनावे तक ही सीमित नहीं है। हमारे देश में खाना बनाने की विधि और खानपान भी उतनी ही विविधता से भरा हुआ है। यहां के हर इलाके का अपना एक अलग ही फ्लेवर होता है, जिसकी झलक वहां के व्यंजनों में दिखती है। अगर किसी दो इलाकों में एक ही व्यंजन बनता दिख भी जाए तो दोनों जगहों पर उसे बनाने- पकाने की विधि जुदा होती है। प्रस्तुत है देश के पांच राज्यों के मशहूर व्यंजन, जो समय के साथ उस जगह के साथ अपना नाम जोड़ चुके हैं। कई बार तो उस जगह का नाम सामने आते ही बरबस वहां के प्रसिद्ध पकवान या व्यंजन का नाम याद आ जाता है।

यह भी पढ़ें- सुबह उठते ही होने लगती हैं थकान, इन चीजों में करें बदलाव

नागालैंड: बैम्बू शूट करी- भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में आप चाहे कहीं चले जायें तो देखेंगे कि पोर्क बैम्बू शूट करी सिर्फ नागा लोग ही नहीं बल्कि सभी लोग बड़े चाव से खाते हैं। यह करी सूखे बैम्बू शूट, मिर्च और हर्ब्स से बनाई जाती है। इसे गर्मागर्म चावल और ताजा उबली सब्जियों के साथ परोसा जाता है। बैम्बू शूट बांस की ताजा कोपल को कहते हैं। बांस की ताजा कोपल को छत्तीसगढ़ में करील के नाम से भी जाना जाता है।

तेलंगाना: बिरयानीः हैदराबादी बिरयानी की खूशबु और उसका लाजवाब स्वाद सिर्फ भारतीयों को ही नहीं बल्कि देश-विदेश के लोगों को अपना मुरीद बना चुका है। बिरयानी दो तरीकों से बनाई जाती है और उसी के आधार पर उसे कच्ची बिरयानी और पक्की बिरयानी कहा जाता है।

गुजरात: ढोकलाः अगर आपको कुछ हल्का खाना पसंद हो और वह हेल्दी भी हो तो पेश है आपके लिए गुजरात का प्रसिद्ध-ढोकला। ढोकला बेसन और दही से बनाया जाता है और इसे स्टीम में पकाया जाता है। यह एक साइड डिश है।

महाराष्ट्र: मिसल पावः बात मुम्बई को हो और पाव की बात न हो, ऐसा हो नहीं सकता है। मिसल पाव बहुत ही लोकप्रिय स्ट्रीट फूड है। अंकुरित मोठ दाल , प्याज, नारियल, टमाटर, मिर्च और अलग-अलग मसालों को मिलाकर मिसल तैयार किया जाता है। इसके साथ कच्चा प्याज, सेव और बटर में गर्म किया हुआ पाव खाया जाता है। यह नाश्ते में या दोपहर के खाने में भी खाया जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है