Covid-19 Update

58,460
मामले (हिमाचल)
57,260
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,046,914
मामले (भारत)
113,175,046
मामले (दुनिया)

राज्यपाल कंगना से मिल सकते हैं, लेकिन आंदोलनरत किसानों से नहीं : शरद पवार

किसान आंदोलन के समर्थन में महाराष्ट्र के आजाद मैदान में निकाली गई रैली

राज्यपाल कंगना से मिल सकते हैं, लेकिन आंदोलनरत किसानों से नहीं : शरद पवार

- Advertisement -

मुंबई। कृषि कानूनों के खिलाफ जहां एक ओर देश भर में ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) को लेकर चर्चा है तो वहीं आज महाराष्ट्र (Maharashtra) में भी कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा है। मुंबई के आजाद मैदान (Azad Maidan) में हजारों की संख्या में किसान और राजनीतिक दलों से जुड़े लोग इस प्रदर्शन में शामिल हुए हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री और एनसीपी प्रमुख शरद पवार (NCP Chief Sharad Pawar) भी इस रैली में पहुंचे और उन्होंने अपने संबोधन में महाराष्ट्र के राज्यपाल (Maharashtra Governor) और केंद्र सरकार पर निशाना साधा।

यह भी पढ़ें: #FarmersProtest : किसान कृषि कानूनों के फायदों पर चर्चा भी करते, 26 जनवरी को ना करें प्रदर्शन

शरद पवार ने अपने भाषण में कहा कि राज्यपाल के पास कंगना रनौत से मिलने का वक्त तो है, लेकिन आंदोलन कर रहे किसानों से मिलने का समय नहीं है। रैली के बाद किसानों ने आजाद मैदान से राजभवन तक मार्च भी निकाला, लेकिन सभी किसानों को राजभवन तक जाने की इजाजत नहीं मिली। इसलिए कुछ ही किसान प्रतिनिधिमंडलों को ही राजभवन तक जाने की इजाजत दी गई। बताया जा रहा है कि इसमें 23 प्रतिनिधिमंडल शामिल थे।

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फणनवीस कृषि कानूनों के मुद्दे पर एनसीपी और कांग्रेस पर सवाल उठाए। एनसीपी ने 2006 में कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग को मंजूरी दी. ऐसे में अगर अब केंद्र भी यही कानून लाया है, तो बुराई क्या है. कांग्रेस को इस दोहरेपन पर जवाब देना जरूरी है। महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार ने किसानों द्वारा आजाद मैदान में किए जा रहे प्रदर्शन को समर्थन दिया है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel  

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है