Covid-19 Update

1,42,510
मामले (हिमाचल)
1,04,355
मरीज ठीक हुए
2039
मौत
23,340,938
मामले (भारत)
160,334,125
मामले (दुनिया)
×

#FarmersProtest : किसान बोले – मांगें पूरी होने तक नहीं जाएंगे वापस, Tikri Border पर एक और की मौत

संत बाबा राम सिंह की आत्महत्या के बाद शिष्यों में रोष, किसानों ने और पक्का किया इरादा

#FarmersProtest : किसान बोले – मांगें पूरी होने तक नहीं जाएंगे वापस, Tikri Border पर एक और की मौत

- Advertisement -

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन (#FarmersProtest) आज 22वें दिन में पहुंच गया है, लेकिन हाड़ कंपाने वाली ठंड भी अब तक किसानों का हौसला नहीं तोड़ पाई है। किसानों का कहना है कि चाहे ठंड पड़े या बारिश जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं होंगी हम वापस नहीं जाएंगे। पिछले कल किसानों के समर्थन में संत बाबा राम सिंह ने खुदकुशी के बाद किसानों ने अब बिना मांगें पूरी किए वापस ना जाने का फैसला पक्का कर लिया है। वहीं, दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi high court) ने राजधानी की तमाम सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को लेकर डाली गई जनहित याचिका की सुनवाई से इनकार कर दिया है। उच्च न्यायालय ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले में पहले ही सुनवाई कर रही है ऐसे में उसकी सुनवाई करने का कोई मतलब नहीं है। सुप्रीम कोर्ट में आज किसान आंदोलन से जुड़ी कई याचिकाओं पर सुनवाई होगी। इसमें किसानों को तुरंत प्रदर्शनस्थल से हटाने की मांग वाली याचिका भी है।


यह भी पढ़ें: #Farmers_Protest : हिमाचल में कांग्रेस व सीटू का प्रदर्शन, केंद्र के खिलाफ की नारेबाजी

 

चिल्ला बॉर्डर पर किसान यूनियन अंबावत के लोगों को धरनास्थल पर जाने से पुलिस रोक रही है। पुलिस किसानों को समझाने की कोशिश कर रही है। अंबावत यूनियन ने आज चिल्ला बॉर्डर पर नोएडा से दिल्ली जाने वाले रास्ते को भी बंद करने का ऐलान किया है। उधर, किसानों की मौत का सिलसिला भी जारी है। टिकरी बॉर्डर (Tikri Border) पर एक किसान जय सिंह की ठंड से मौत हो गई है। वह हरियाणा (Haryana) के रहने वाले थे।

 

ठंड की वजह से पहले भी कई किसान अपनी जान गंवा चुके हैं। सिंधु बॉर्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बढ़ती ठंड से बचने के लिए गैस हीटर लगाए हैं। एक प्रदर्शनकारी ने बताया, ‘लोग लकड़ी जलाकर अपना काम चला रहे हैं। किसान नेताओं ने कुछ हीटर मंगाए हैं लेकिन ये गैस से चलते हैं, इनमें खर्चा है।’

 

वहीं, संत बाबा राम सिंह के बारे में बता दें कि हरियाणा के करनाल से प्रदर्शन स्थल पहुंचे संत बाबा राम सिंह ने बुधवार को खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। उन्होंने अपने सुसाइड नोट में किसान आंदोलन का समर्थन किया और लिखा कि उनसे ये दुख देखा नहीं जा रहा है। इस घटना से संत राम सिंह के शिष्यों में रोष है और उनका कहना है कि ये आत्महत्या नहीं, बल्कि शहादत है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है