Covid-19 Update

2,27,195
मामले (हिमाचल)
2,22,513
मरीज ठीक हुए
3,831
मौत
34,587,822
मामले (भारत)
262,656,063
मामले (दुनिया)

नहलाते समय टूटी लड्डू गोपाल की मूर्ति, पुजारी मूर्ति को लेकर पहुंचा अस्पताल

अस्पताल ने श्री कृष्ण निवासी आगरा के नाम से पर्ची काटी

नहलाते समय टूटी लड्डू गोपाल की मूर्ति, पुजारी मूर्ति को लेकर पहुंचा अस्पताल

- Advertisement -

नई दिल्ली। कृष्ण की भक्ति में डूबे कई लोग आपको सड़कों पर संकीर्तण करते नजर आ जाएंगे। मीरा से लेकर रसखान और सूरदास तक कई भक्तों की कई कथाएं देश में सुनी सुनाई जाती है। कलयुग में भी कृष्ण भक्ति के कई मामले सामने आए हैं। आगरा से भी कृष्ण की भक्ति में डूबने का एक अजब गजब मामला सामने आया है।

शुक्रवार सुबह लड्डू गोपाल को स्नान कराने के दौरान भगवान की प्रतिमा गिरी गई और हाथ टूट गया। इस पर पुजारी इतने दुखी हुए कि फूट-फूटकर रोने लगे। लड्डू गोपाल की मुर्ती पर प्लास्टर चढ़ाने की कोशिश की, मगर नाकाम रहे। रोते हुए लड्डू गोपाल को गोद में लेकर जिला अस्पताल पहुंच गए। उनकी जिद देख खुद सीएमएस ने लड्डू गोपाल का पर्चा बनवाकर अपने हाथों से प्लास्टर किया और पुजारी को सौंपा। इसके बाद पुजारी लड्डू गोपाल को घर ले गया।

यह भी पढ़ें: लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है यह परिवार, लंबाई इतनी है कि विदेशों से मंगवाने पड़ते हैं जूते

मिली जानकारी के अनुसार, पुजारी लेख सिंह ने करीब 25-30 साल पहले शाहगंज के खासपुरा एरिया के पथवारी मंदिर में लड्डू गोपाल को विराजान किया था। पुजारी लड्डू गोपाली की अपने छोटे बच्चे की तरफ ख्याल रखते। लेख सिंह ने कहा कि 5 बजे सुबह स्नान कराते समय लड्डू गोपाल गिर गए और उनका हाथ टूट गया। उन्होंने खुद खपच्ची बांधी और दर्द का मलहम लगाया। उसके बाद 8 बजे ओपीडी खुलते ही वे लड्डू गोपाल को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे।

पहले तो डॉक्टरों ने लड्डू गोपाल को प्लास्टर चढ़ाने से इनकार कर दिया तो पुजारी लेख सिंह बेसुध से हो गए। इस पर हिंदू संगठन के कुछ पदाधिकारी भी पहुंच गए। उन्होंने श्री कृष्ण निवासी आगरा के नाम से पर्चा बनवाया। इसके बाद सीएमएस अशोक कुमार ने अपने केबिन को ऑपरेशन थिएटर बनाया और पुजारी के सामने लड्डू गोपाल का प्लास्टर किया और अपने हाथों से पुजारी को सौंपा। सीएमएस डॉ. एके अग्रवाल ने बताया कि ऐसा मामला उनके सामने पहली बार आया है। पुजारी ने लड्डू गोपाल का इलाज करने की अपील की थी। उन्होंने देखा तो अष्टधातु की प्रतिमा का हाथ टूट गया था। इतनी छोटी प्रतिमा को उन्होंने लकड़ी की खपच्ची की सपोर्ट से पट्‌टी कर दी।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है