Covid-19 Update

2,27,093
मामले (हिमाचल)
2,22,422
मरीज ठीक हुए
3,830
मौत
34,580,832
मामले (भारत)
262,061,063
मामले (दुनिया)

ट्रेन में भगवा पहन कर जूठन उठा रहे वेटर, संत समाज ने खोला मोर्चा, बताया अपमान

उज्जैन के साधु संतों ने इस पर आपत्ति जताई है

ट्रेन में भगवा पहन कर जूठन उठा रहे वेटर, संत समाज ने खोला मोर्चा, बताया अपमान

- Advertisement -

नई दिल्ली। रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में सर्विस देने वाले वेटर्स की ड्रेस पर अब बवाल खड़ा हो गया है। उज्जैन के साधु संतों ने इस पर आपत्ति जताई है। दरअसल, इस ट्रेन में वेटर्स भगवा कपड़े, धोती, पगड़ी और रुद्राक्ष की माला पहने हुए दिखाई दे रहे हैं। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में वेटर्स संतों की वेशभूषा में लोगों को खाना परोसते हुए दिखाई दे रहे हैं। वे इस दौरान जूठन भी उठाते हुए दिख रहे हैं।

उज्जैन के संतों का कहना है कि आईआरसीटी संत समाज का आपमान कर रही है। ट्रेन के वेटर्स को कोई दूसरी ड्रेस पहनाई जानी चाहिए। इस बाबत उज्जैन के संतों ने रेल मंत्री अश्विणी वैष्णव को चिट्‌ठी लिखी है। उन्होंने 12 दिसंबर को शुरू होने वाले ट्रेन की अगली ट्रिप का विरोध करने की चेतावनी दी है। नाराज संतों ने ट्रेन रोकने की बात भी कही है। मामले पर अखाड़ा परिषद के पूर्व महामंत्री अवधेश पुरी महाराज ने कहा कि जल्द ही वेटर्स की वेशभूषा को बदला जाए, वरना 12 दिसंबर को निकलने वाली अगली ट्रेन का संत समाज विरोध करेगा और ट्रेन के सामने हजारों हिन्दुओं को लेकर प्रदर्शन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: नहलाते समय टूटी लड्डू गोपाल की मूर्ति, पुजारी मूर्ति को लेकर पहुंचा अस्पताल

बता दें कि रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से खुलती है। इस ट्रेन का पहला पड़ाव अयोध्या होता है। यहां से ही धार्मिक यात्रा शुरू होती है। अयोध्या से यात्रियों को सड़क मार्ग से नंदीग्राम, जनकपुर, सीतामढ़ी के रास्ते नेपाल ले जाया जाता है। इसके बाद ट्रेन से यात्रियों को भगवान शिव की नगरी काशी ले जाया जाता है। यहां से बसों के जरिए काशी के प्रसिद्ध मंदिरों सहित सीता समाहित स्थल, प्रयाग, श्रृंगवेरपुर और चित्रकूट ले जाया जाता है।

चित्रकूट से यह ट्रेन नासिक पहुंचती है, जहां पंचवटी और त्रयंबकेश्वर मंदिर का भ्रमण कराया जाता है। नासिक से किष्किंधा नगरी हंपी, जहां अंजनी पर्वत स्थित श्री हनुमान जन्मस्थल और का दर्शन कराया जाता है। इस ट्रेन का अंतिम पड़ाव रामेश्वरम है, जहां धनुषकोटी के दर्शन कराते हैं। रामेश्वरम से चलकर यह ट्रेन 17वें दिन वापस लौटती है। सफर के दौरान यात्री कुल 7500 किलोमीटर तक का सफर तय करते हैं।

एक लाख रुपए किराया

12 दिसंबर को रामायण एक्सप्रेस ट्रेन की अगली ट्रिप है। इसके लिए IRCTC की वेबसाइट पर ऑनलाइन बुकिंग कराई जा सकती है। बुकिंग पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर होगी। एसी फर्स्ट क्लास में यात्रा के लिए प्रति व्यक्ति 1 लाख 02 हजार 95 और सेकेंड एसी में सफर के लिए प्रति व्यक्ति 82 हजार 950 रुपए किराया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है